अब ट्रेन में होगी 'खुशियों की डिलीवरी', रेलवे शुरू करने जा रहा ये खास सुविधा

अब रेलवे में सफर के दौरान मिलेगा स्वादिष्ट व्यंजन का मजा.

भारतीय रेलवे (Indian Rail) की नई पहल के बाद अब रेल में सफर के दौरान यात्रियों को पिज्जा से लेकर दक्षिण भारतीय खानों का लुत्फ उठाने का मौका मिलेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated:
    December 6, 2019, 6:08 PM IST

नई दिल्ली. भारतीय रेल (Indian Railway) में सफर के दौरान आपके खाने का एक्स​पीरियंस बदलने वाला है. भारतीय रेलवे ने रेल यात्रा को और आरामदायक बनाने के लिए नई पहल की है, जिसका नाम ‘खुशियों की डिलीवरी’ रखा गया है. दरअसल, रेलवे में केटरिंग की सुविधा प्रदान करने वाली कंपनी IRCTC अपने ई-केटरिंग​ सिस्टम को रिब्रैंड करने की कोशिश कर रही है.

इन ब्रांडेड खानों की होगी डिलीवरी
इसके लिए IRCTC ने 700 फूड वेंडर के साथ डील की है, जो देशभर में करीब 350 रेलवे स्टेशनों पर आपको मनपसंद खानों की डिलीवरी करेंगे. IRCTC की इस खास डील के तहत रेल सफर के दौरान Subway, डोमिनॉज पिज्जा, बिरयानी ब्लूज की मशहूर बिरयानी, हल्दीराम की राजकचौरी, समेत कई तरह के खानों की डिलीवरी हो सकेगी. इसमें दक्षिण भारतीय व्यंजन भी शामिल होंगे.

ये भी पढ़ें: तंगी से गुजर रहे पाकिस्तान ने अपना खाली खजाना भरने के लिए बनाया नया प्लान, जानिए कहां से जुटाएगा अब फंड अधिक से अधिक यात्रियों को कवर करने की कोशिश
इन 350 रेलवे स्टेशनों को कुछ इस प्रकार से चुना गया है ताकि इनसे गुजरने वाली लगभग सभी ट्रेनें और रेलवे रूट कवर किया जा सके ताकि अधिक से अधिक मुसाफिर इसके दायरे में आ सकें. बता दें कि बीते 1 साल में IRCTC को केटरिंग बिजनेस से खासा फायदा मिला है. इसी को ध्यान में रखते हुए आईआरसीटीसी नए कलेवर में ‘खुशियों की डिलीवरी’ नाम से पेश कर इसे और बढ़ाने का प्रयास कर रहा है.

रेलवे को हो रहा फायदा

मौजूदा समय में IRCTC को हर माह करीब 21,000 फूड ऑर्डर ई-केटरिंग के ​माध्यम से मिलते हैं, जबकि एक से डेढ़ साल पहले यह आंकड़ा केवल 8,000 के करीब ही था. IRCTC को हर ऑर्डर पर करीब 12 फीसदी का कमीशन मिलता है.

ये भी पढ़ें: Vodafone-Idea को नहीं मिला सरकारी फंड तो बंद हो जाएगी कंपनी: बिड़ला

ट्रेनों की के​टरिंग सुविधा पहले से बेहतर हुईं
ई-केटरिंग के अलावा, रेलवे की मौजूदा के​टरिंग में भी खासा सुधार देखने को मिला है. अब ट्रेनों की पैंट्री कार में नए कुकिंग टेक्नोलॉजी, इक्विपमेंट और स्टोर करने की जगह को पहले से बेहतर बनाया गया है. बेस किचन को सीसीटीवी से मॉनीटर किया जा रहा है. ट्रेन में मिलने वाले फूड के पैकेट पर एक क्यूआर कोड भी होता है, यात्री इस कोड को स्कैन कर सीधे बेस किचन को लाइव देख सकते हैं.

ये भी पढ़ें: US-China ट्रेड वॉर से चीन को लगा झटका! चीनी कंपनियां भारत में करने वाली हैं 800 करोड़ का निवेश

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: December 6, 2019, 4:09 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here