Sunday, September 20, 2020
Home समाचार इटली के पूर्व प्रधानमंत्री बर्लुस्कोनी की हालत नाजुक, कोरोना वायरस से हैं...

इटली के पूर्व प्रधानमंत्री बर्लुस्कोनी की हालत नाजुक, कोरोना वायरस से हैं पीड़ित

इटली के पूर्व प्रधानमंत्री बर्लुस्कोनी की हालत नाजुक, कोरोना वायरस से हैं पीड़ित

इटली के पूर्व प्रधानमंत्री सिल्वियो बर्लुस्कोनी (सौ. रॉयटर्स)

इटली (Italy) के पूर्व प्रधानमंत्री सिल्वियो बर्लुस्कोनी की कोरोना (Corona) के कारण हालत नाजुक बनी हुई है. साथ ही उन्हें लंबे समय से दिल की भी बीमारी रही है और कई साल पहले पेसमेकर लग चुका है.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    September 6, 2020, 8:36 PM IST

रोम. इटली (Italy) के पूर्व प्रधानमंत्री सिल्वियो बर्लुस्कोनी का कोविड-19 (Covid-19) का इलाज चल रहा है और उन पर इलाज का असर हो रहा है लेकिन उन पर संक्रमण का प्रभाव काफी ज्यादा है. बर्लुस्कोनी का इलाज कर रहे डॉक्टर ने रविवार को यह जानकारी दी. डॉ. अल्बर्टो जैंग्रिलो ने रविवार को फिर कहा कि वह बर्लुस्कोनी के ठीक होने के प्रति आशान्वित हैं लेकिन उनके इलाज में सतर्कता बरतने की जरूरत है. इटली के तीन बार प्रधानमंत्री रहे बर्लुस्कोनी कुछ सप्ताह में 84 वर्ष के हो जाएंगे.

उन्हें लंबे समय से दिल की बीमारी रही है और कई साल पहले पेसमेकर लग चुका है. गत सप्ताह उनकी जांच में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि होने पर शुक्रवार को उन्हें मिलान के सैन रफेल अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उस समय तक बर्लुस्कोनी के फेफड़ों में संक्रमण प्रारंभिक चरण में था. अस्पताल के बाहर जैंग्रिलों ने संवाददाताओं से कहा, ‘मरीज का शरीर इलाज के प्रति सकारात्मक प्रतिक्रिया दे रहा है.’ उन्होंने कहा, ‘इसका यह अर्थ नहीं है कि हम जीत गए, आपको तो पता है कि उनकी (बर्लुस्कोनी) उम्र के हिसाब से उनकी हालत बहुत नाजुक है.’

ये भी पढ़ें: चिंताजनक! WHO ने कहा- अगले साल के मध्य तक नहीं बनेगी कोरोना वैक्सीन

अगले साल के मध्य तक नहीं बनेगी वैक्सीनदुनिया में कोरोनावायरस के अब तक 2 करोड़ 70 लाख 60 हजार 255 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें 1 करोड़ 91 लाख 60 हजार 40 मरीज ठीक हो चुके हैं, जबकि 8 लाख 83 हजार 618 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अब कोरोना वैक्सीन को लेकर फिर से नया बयान जारी किया है. दरअसल, उनका मानना है कि कोरोना वैक्सीन अगले साल के मध्य तक नहीं बनेगी. डब्ल्यूएचओ के प्रवक्ता मार्गरेट हैरिस ने कहा कि अब तक उन्नत नैदानिक ​​परीक्षणों में से जितनी भी दवा कंपनियां वैक्सीन बना रही हैं, उनमें से कोई भी अभी तक कम से कम 50 प्रतिशत के स्तर पर खरी नहीं उतरी है.

Source link

Leave a Reply

Most Popular

%d bloggers like this: