कल पटियाला कोर्ट में पेश किए जाएंगे निर्भया गैंगरेप के चारों दोषी

जज ने कहा था एक साथ जारी होगा डेथ वारंट. (फाइल फोटो)

दूसरी ओर तिहाड़ जेल (Tihar Jail) प्रशासन चारों दोषियों को फांसी दिए जाने की तैयारी भी कर रहा है. फांसी (Execution) के लिए जल्लाद (Executioner) का इंतजाम करने के लिए यूपी के जेल (UP Jail) प्रशासन को भी तिहाड़ प्रशासन की ओर से पत्र लिखा गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated:
    December 12, 2019, 1:13 PM IST

नई दिल्ली. निर्भया गैंगरेप केस (Nirbhaya Gangrape) के चारो दोषियों को शुक्रवार यानी कल पटियाला कोर्ट (Patiyala Court) में पेश किया जाएगा. पिछली सुनवाई के दौरान कोर्ट ने जेल (Jail) प्रशासन को दोषियों को पेश करने का आदेश दिया था. इसी के चलते चारों की पटियाला कोर्ट में एक साथ पेशी होगी. दरअसल, पिछली सुनवाई के दौरान कोर्ट में निर्भया की माँ रोने लगी थी और सवाल पूछा था कि कब होगी दोषियों को फांसी. उनका कहना था कि अभी एक दोषी ने राष्ट्रपति के पास दया याचिका लगाई है. अब राष्ट्रपति उस पर फैसला लेंगे. एक की याचिका खारिज होगी तो फिर दूसरा डालेगा. फिर तीसरा डालेगा और आखिर में चौथा. ऐसे में केवल समय बर्बाद हो रहा है. इसी के चलते कोर्ट ने चारों को एक साथ पेश करने का आदेश दिया था. दूसरी ओर तिहाड़ जेल प्रशासन चारों दोषियों को फांसी दिए जाने की तैयारी भी कर रहा है. फांसी के लिए जल्लाद का इंतजाम करने के लिए यूपी के जेल प्रशासन को भी तिहाड़ प्रशासन की ओर से पत्र लिखा गया है.

इसलिए जज ने कहा था एक साथ जारी होगा डेथ वारंट

निर्भया की मां ने जब कोर्ट के सामने अपनी बात रखी और कहा कि एक-एक कर डाली जा रहीं याचिकाओं से समय खराब हो रहा है तो जज का निर्भय की मां से कहना था कि इस मामले में सभी दोषियों का एक साथ ही डेथ वारंट जारी होगा. इसके बाद निर्भया की माँ कोर्ट में रोने लगी थी. इसके बाद ही जज ने चारों को एक साथ कोर्ट में पेश करने वाली बात भी कही थी. साथ ही निर्भया की मां से कहा था कि चारों का एक साथ ही डेथ वारंट जारी होगा.

चार नहीं छह थे इस केस के दोषीनिर्भया गैंगरेप केस के चार दोषी मुकेश, पवन, विनय और अक्षय अपना आखिरी वक्त गिन रहे हैं. इन्हें 16 दिसंबर को फांसी दी जा सकती है. दरअसल 16 दिसम्बर 2012 की उस रात चार नहीं छह लोगों ने निर्भया के साथ दरिंदगी की थी. बाद में एक आरोपी ने आत्महत्या कर ली थी और एक कम उम्र की वजह से फांसी के फंदे से बच गया. इस घटना के मुख्य आरोपी और बस के ड्राइवर राम सिंह ने साल 2103 में जेल के भीतर ही फांसी लगा ली थी.

ये भी पढ़ें:- अयोध्या मामलाः अजित डोभाल ने योगी सरकार को लिखा लैटर, UP में हो रही चर्चा

कार पर लिखे ‘L’ ने ले ली 23 हजार लोगों की जान!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: December 12, 2019, 1:06 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here