Sunday, September 20, 2020
Home समाचार कोमा से बाहर आए रूस के विपक्षी नेता एलेक्सी नवलनी, जर्मनी में...

कोमा से बाहर आए रूस के विपक्षी नेता एलेक्सी नवलनी, जर्मनी में चल रहा है ईलाज

कोमा से बाहर आए रूस के विपक्षी नेता एलेक्सी नवलनी, जर्मनी में चल रहा है ईलाज

रूस के विपक्षी नेता एलेक्सी नवलनी (सौ. रॉयटर्स)

रूस के विपक्षी नेता एलेक्सी नवलनी (Alexey Navalny) अब कोमा से बाहर आ गए हैं. बर्लिन (Berlin) के अस्पताल ने बताया कि अब वह प्रतिक्रिया दे रहे हैं.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    September 7, 2020, 9:54 PM IST

बर्लिन. रूस के विपक्षी नेता एलेक्सी नवलनी (Alexey Navalny) का इलाज कर रहे जर्मनी के अस्पताल ने कहा कि वह कोमा (Coma) से बाहर आ गए हैं और अब प्रतिक्रिया दे रहे हैं. रूसी राष्ट्रपति के आलोचक और भ्रष्टाचार के मामले उजागर करने वाले नवलनी पिछले महीने मॉस्को जा रही एक उड़ान में बीमार पड़ गए थे और उन्हें साइबेरिया के शहर ओम्स्क में एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था. नवलनी को 22 अगस्त को उपचार के लिए जर्मनी भेजा गया था. वह तभी से बर्लिन के एक अस्पताल में हैं.

जर्मनी के अधिकारियों ने दावा किया था कि उन्हें जहर दिया गया था. बर्लिन के चेराइट अस्पताल ने सोमवार को कहा कि नवलनी की हालत में और सुधार हुआ है, जिसके बाद कहा जा सकता है कि अब वह चिकित्सीय कोमा से बाहर आ गए हैं. यह भी कहा गया कि वह बोलने पर प्रतिक्रिया दे रहे थे लेकिन ”गंभीर विषाक्तता के दीर्घकालिक परिणामों को अभी भी नकारा नहीं किया जा सकता.’ बता दें, रूस के विपक्षी नेता एलेक्‍सी नवलनी को जहर देकर मारने की कोशिश करने का मामला अब गरम होता जा रहा है. यूरोपीय यूनियन के प्रमुख के तौर पर जर्मनी के ऊपर इसको लेकर काफी दबाव है कि वो इस घटना के खिलाफ कुछ ठोस कार्रवाई करे. इसके बाद ही जर्मनी ने इस बात के संकेत दिए हैं कि वो रूस पर प्रतिबंध लगा सकता है.

ये भी पढ़ें: खुशखबरी! सूडान में खत्म हुआ 30 साल का इस्लामी शासन, अब बनेगा लोकतांत्रिक राष्ट्र

‘घटना के पीछे रूसी सरकार का हाथ’आपको बता दें कि जर्मनी की सरकार ने कुछ ही दिन पहले इस बात का खुलासा किया था कि नवलनी को हाईग्रेड मिलिट्री नर्व एजेंट नोविचोक दिया गया था. इसी जानलेवा नर्व एजेंट से वर्ष 2018 में रूस के पूर्व सीक्रेट एजेंट सर्गी स्‍क्रीपल और उनकी बेटी को लंदन में मारने की कोशिश की गई थी. हालांकि नवलनी की ही तरह उनकी भी किस्‍मत अच्‍छी थी और उन्‍हें समय रहते बचा लिया गया था. वहीं, जर्मनी के विदेश मंत्री हैको मास ने कहा है कि जांच के दौरान उन्‍हें इस बात के सुबूत मिले हैं कि इस घटना के पीछे रूसी सरकार का हाथ था. हालांकि उनके आरोपों को खारिज करते हुए रूस के विदेश मंत्री सर्गी लेवरॉव ने कहा कि जर्मनी की सरकार इस बारे में उन्‍हें तथ्‍य साझा करे. उसके बाद उनपर विचार किया जा सकता है. जर्मनी की तरफ से ये भी कहा गया है कि नवलनी से पहले भी रूस की सरकार इस तरह की घटनाओं को अंजाम देती रही है.

Source link

Leave a Reply

Most Popular

%d bloggers like this: