Monday, October 26, 2020
Home Health Health Care / स्वास्थ्य क्यों होता है लंग कैंसर और क्या होता है इसका स्टेज-3, जानें...

क्यों होता है लंग कैंसर और क्या होता है इसका स्टेज-3, जानें जरूरी बातें

क्यों होता है लंग कैंसर और क्या होता है इसका स्टेज-3, जानें जरूरी बातें

अभिनेता संजय दत्त लंग कैंसर से पीडि़त हैं और उनका इलाज जारी है.

लंग कैंसर (Lung Cancer) यानी फेफड़ों का कैंसर अधिकतर धूम्रपान (Smoking) करने वाले या गुटखा या ड्रग्स (Drugs) लेने वालों में होता है.



  • Last Updated:
    September 23, 2020, 12:18 PM IST

कैंसर (Cancer) होने के मुख्य कारण क्या होते हैं, इसको लेकर आज भी कई शोध हो रहे हैं. आज तक कैंसर होने का कोई मजबूत कारण नहीं पता चला है. कैंसर जैसी भयावह बीमारी भी कई तरह की होती हैं, इन्हीं में से एक है फेफड़ों का कैंसर (Lung Cancer). फेफड़ों का कैंसर आनुवंशिक कारणों से भी होता है, लेकिन इस बात को निश्चित तौर पर कहा नहीं जा सकता है. लंग कैंसर यानी फेफड़ों का कैंसर अधिकतर धूम्रपान (Smoking) करने वाले या गुटखा या ड्रग्स (Drugs) लेने वालों में होता है. आइए जानते हैं कि लंग्स कैंसर कैसे होता है और इसकी हर स्टेज के बारे में.

ऐसे होती है कैंसर की शुरुआत

शरीर की बनावट कुछ ऐसी होती है कि इसमें लगातार कोशिकाओं का निर्माण होने और नष्ट होने की प्रक्रिया चलती रहती है. नई कोशिकाएं पुरानी कोशिकाओं की जगह आ जाती हैं. शरीर में हर दिन करीब 40 हजार कोशिकाओं की मृत्यु हो जाती है. जिस अनुपात में कोशिकाएं नष्ट होती हैं, उसी अनुपात में नई कोशिकाएं निर्मित होती हैं. इसी प्रक्रिया के बीच कई अलग-अलग कारणों से कोई एक कोशिका लगातार बढ़ती चली जाती है. शरीर उस कोशिका की अव्यवस्थित वृद्धि को रोक नहीं पाता है. इसी वजह से यह कोशिका बढ़ते-बढ़ते भविष्य में कैंसर का रूप ले लेती है.लंग कैंसर की स्टेज थ्री क्या होता है

किसी भी तरह के कैंसर में स्टेज-3 की अवस्था वह अवस्था होती है, जब कैंसर मरीज के शरीर के दूसरे अंगों को भी अपनी चपेट में लेने लगता है. कैंसर के अलग-अलग प्रकारों की बात करें तो स्टेज-3 से आशय यह है कि कैंसर उनके शरीर के किसी एक भाग में विकसित होकर शरीर के दूसरे अंगों तक फैलने लगता है. इसका मतलब है कि लंग कैंसर फेफड़ों में विकसित होता है और तीसरी स्टेज तक फेफड़ों में ही फैलता रहता है.

लंग कैंसर की चौथी स्टेज बहुत ज्यादा खतरनाक

लंग कैंसर में चौथी स्टेज सबसे अधिक खतरनाक और जानलेवा मानी जाती है. जो लोग इस स्थिति में पहुंच जाते हैं, उनके जीवन पर मौत का खतरा मंडराने लगता है. लेकिन यदि इस स्थिति में पहुंचने से पहले ही लंग कैंसर को नियंत्रित कर लिया जाए तो इस रोग को हराने की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है. स्टेज-थ्री में रहते हुए लंग कैंसर लिंफ नोड और लंग्स के पीछे की तरफ ही फैलता है. जबकि इसके बाद यह दूसरे अंगों में फैलने लगता है तो यह इसकी अंतिम स्टेज होती है और इसे स्टेज-4 कहा जाता है.

किन लोगों में ज्यादा दिखता है लंग्स कैंसर का प्रभाव

लंग कैंसर ज्यादातर अधिक उम्र के लोगों को प्रभावित करता है. लंग कैंसर 40 से कम उम्र के लोगों में कम होता है. फेफड़ों में कैंसर तब ज्यादा बढ़ता है, जब फेफड़े पहले से ही खराब होने लगते हैं.

ये रखें सावधानी

लंग कैंसर से पीड़ित मरीज को धूम्रपान या शराब आदि का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए. ऐसा करने से समस्या ज्यादा बढ़ सकती है. इसके अलावा डॉक्टर या योगाचार्य की सलाह पर प्राणायाम भी जरूर करना चाहिए. शुरुआती अवस्था में हल्की सांसों के साथ प्राणायम का अभ्यास करना चाहिए.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, फेफड़ों के कैंसर का ऑपरेशन कैसे होता है, देखभाल सावधानियां और जटिलताएं पढ़ें. NotSocommon पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

! function(f, b, e, v, n, t, s) { if (f.fbq) return; n = f.fbq = function() { n.callMethod ? n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments) }; if (!f._fbq) f._fbq = n; n.push = n; n.loaded = !0; n.version = ‘2.0’; n.queue = []; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e)[0]; s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, ‘script’, ‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’); fbq(‘init’, ‘482038382136514’); fbq(‘track’, ‘PageView’);

Source link

Leave a Reply

Most Popular

%d bloggers like this: