Home Viral गधे के दूध से बनता है दुनिया का सबसे बेहतरीन और महंगा...

गधे के दूध से बनता है दुनिया का सबसे बेहतरीन और महंगा पनीर | knowledge – News in Hindi



ये बात आपको हैरानी भरी लग सकती है कि दुनिया का सबसे महंगा और बेहतरीन पनीर गाय या भैंस से दूध से नहीं बल्कि एक ऐसे जानवर से बनाया जाता है, जिसको हम लोग अपने देश में किसी गिनती में गिनते ही नहीं. दुनिया का ये सबसे महंगा पनीर यूरोपीय देश सर्बिया के एक फॉर्म हाउस में बनाया जाता है जिसकी कीमत होती है करीब 78 हज़ार रुपये किलो.इसे बहुत दुलर्भ पनीर भी माना जाता है, क्योंकि इसको बहुत अधिक मात्रा में नहीं बनाया जा सकता. इसे बनाया जाता है गधे की एक खास नस्ल के जरिए.सफेद रंग का, घना जमा और फ्लेवर युक्त यह स्वादिष्ट पनीर सर्बिया के एक फॉर्म हाउस में गधी के दूध से बनाया जाता है. ये ना केवल लज़ीज़ होता है बल्कि सेहत के लिहाज़ से भी उम्दा. ये भी पढ़ें – पासपोर्ट की तस्वीर में आखिर मुस्कराना मना क्यों होता हैउत्तरी सर्बिया के एक कुदरती रिज़र्व को ज़ैसाविका के नाम से जाना जाता है. यहां स्लोबोदान सिमिक 200 से ज़्यादा गधों को पालते हैं. उनके दूध से कई तरह के उत्पाद तैयार करते हैं.बहुत फायदेमंद माना जाता है ये दूध सिमिक का दावा है कि सर्बिया के इन गधों के दूध में मां के दूध जैसे गुण होते हैं. एक नवजात शिशु को जन्म के पहले दिन से ही ये दूध दिया जा सकता है. वो भी ​बगैर पतला किए हुए. फॉर्म हाउस के मालिक  सिमिक इस दूध को कुदरत का वरदान कहते हैं और सेहत के लिए बेहद फायदेमंद. उनका दावा है कि इसका सेवन अस्थमा और ब्रॉंकाइटिस जैसे कुछ और रोगों में फायदेमंद है. गधी का दूध निकालता एक फॉर्म कर्मचारी.इसमें प्रोटीन की मात्रा बहुत अच्छी होती है इन दावों के बावजूद अब तक इस दूध पर वैज्ञानिक शोध नहीं हो सके हैं इसलिए सेहत के लिए इसके फायदे या गुणों के बारे में ज़्यादा मालूमात नहीं है. हालांकि यूनाइटेड नेशंस ने इस दूध के बारे में कहा था कि ये उन लोगों के लिए बेहतरीन विकल्प है, जिन्हें गाय के दूध से एलर्जी जैसी समस्याएं हों. इसकी वजह ये भी थी कि इस दूध में प्रोटीन की मात्रा बहुत अच्छी होती है.और पहली बार यूं बना गधे के दूध से पनीर सिमिक की मानें तो दुनिया में उनसे पहले गधी के दूध से पनीर किसी ने नहीं बनाया. इस प्रॉडक्ट पर वो अपना ​अधिकार मानते हैं. जब उन्हें इस दूध से पनीर बनाने का आइडिया आया तो पहली समस्या ये थी कि इस दूध में कैसीन का स्तर कम होता है, जो पनीर के लिए बाइंडिंग एजेंट का काम करता है.ये भी पढ़ें – कोलकाता से लंदन तक चलती थी बस सेवा…45 दिनों में पूरी होती थी यात्रालेकिन, चीज़ बनाने के लिए ज़ैसाविका के एक सदस्य ने सिमिक की मदद की और रास्ता ये खोजा गया कि अगर इस दूध में बकरी के दूध की कुछ मात्रा मिलाई जाए तो पनीर बनाया जा सकता है. विकीपीडिया का एक पेज तो खासतौर पर इसकी जानकारी देता है. साथ ही वर्ल्ड रिकॉर्ड एकेडमी भी इस बात की पुष्टि करती है .यही नहीं बीबीसी ने भी इस पर एक लंबा आर्टिकल पब्लिश किया.इसलिए पनीर का उत्पादन होता है कम  खास बात ये है कि एक गधी एक दिन में एक लीटर दूध भी नहीं देती जबकि एक गाय से 40 लीटर प्रतिदिन तक दूध मिल सकता है. इसी वजह से इस पनीर का उत्पादन बहुत कम हो पाता है. एक साल में ये फॉर्म 6 से 15 किलो तक पनीर बनाता और बेचता है.इस दूध से शराब भी बनाई जाती है  इस पनीर का उत्पादन कम होने के कारण इसकी कीमत बहुत ज़्यादा हैं. इसके खरीदार ज़्यादातर विदेशी और पर्यटक होते हैं. सिमिक कहते हैं कि उनका फॉर्म गधी के दूध से साबुन और शराब का उत्पादन भी करता है. ये पनीर 2012 में तब चर्चा में आया था, जब सर्बिया के टेनिस स्टार नोवाक जोकोविच के बारे में कहा गया था कि उनके लिए इस पनीर की सालाना सप्लाई की जाती है, हालांकि नोवाक ने इस खबर का खंडन किया था. सर्बिया में गधी के दूध से बनने वाला पनीर सामान्य पनीर जैसा ही सफेद रंग का दिखता है.किस प्रजाति के हैं ये गधे चूंकि खेती में ज़्यादातर काम मशीनों से होने लगा है कि इसलिए इन गधों का सर्बिया में उपयोग खत्म हो चुका है. ये बाल्कन प्रजाति के गधे हैं जो सर्बिया और मांटेनेग्रो प्रांत में ही शुरू से पाए जाते रहे हैं. सिमिक कहते हैं कि उनके फॉर्म में गधों की इस प्रजाति का संरक्षण भी किया जा रहा है.क्या है चीन का वो नया हांग कांग सुरक्षा कानून, जिससे डर के साए में होंगे वहां के लोगसिमिक का ये भी कहना है कि उनके प्रॉडक्ट के बाद इन गधों के लिए डिमांड बढ़ रही है, जिससे उन्हें और उनके इलाके को फायदा भी हो रहा है. गधी के दूध से बनने वाले दुनिया के सबसे महंगे पनीर को प्यूल चीज़ कहा जाता है.



Source link

Leave a Reply

Most Popular

नाम सत्यानाशी लेकिन है गुणों की खान, अस्थमा, डायबिटीज, अल्सर, पीलिया और आंखों के लिए है बेहद फायदेमंद

'सत्यानाशी' (Satyanashi) नाम सुनकर कहीं से कहीं तक कोई सोच नहीं सकता कि ये पौधा कितने काम का है. सत्यानाशी नाम का पौधा और...

MHA ने सिनेमा हॉल को 15 अक्टूबर से 50% क्षमता पर संचालित करने की अनुमति दी: बॉलीवुड समाचार – बॉलीवुड हंगामा

गृह मंत्रालय द्वारा अनलॉक 5.0 दिशानिर्देशों ने फिल्म निर्माताओं और थिएटर मालिकों को एक बड़ी राहत प्रदान की है क्योंकि केंद्र...

Project Manager – UIDAI , Bangalore

Apply for the job now! Job title: Project Manager - UIDAI , Bangalore Company: National Institute for Smart Government Apply for the job now! Job description: Education: ...
%d bloggers like this: