Monday, September 28, 2020
Home समाचार घोड़े और ऊंट पर सवार हमलावरों ने 20 लोगों की हत्या की,...

घोड़े और ऊंट पर सवार हमलावरों ने 20 लोगों की हत्या की, 22 को किया घायल

घोड़े और ऊंट पर सवार हमलावरों ने 20 लोगों की हत्या की, 22 को किया घायल

सूडान के दक्षिण दाराफुर में अज्ञात हमलावरों ने 20 लोगों को मौत के घाट उतार दिया. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सूडान में अज्ञात बंदूकधारी हमलावरों (Unknown Gunmen Attackers) ने 20 लोगों की हत्या (Twenty People Murdered) कर दी और 22 लोगों को घायल कर दिया है

खारतोम. सूडान में अज्ञात बंदूकधारी हमलावरों (Unknown Gunmen Attackers) ने 20 लोगों की हत्या (Twenty People Murdered) कर दी और 22 लोगों को घायल कर दिया है. यह घटना दक्षिण दारफुर में घटी. स्थानीय समुदाय के नेता निमर के अनुसार हमलावर घोड़े और ऊंट  पर बैठकर आए थे और उम डोमास इलाके में ताबड़तोड़ गोलियां चलाने लगे जिसमें 20 लोग मारे गए. उम डोमास राज्य की राजधानी न्याला से करीब 90 किलोमीटर की दूरी पर है. सूडान में इस तरह की घटना अक्सर घटती रहती है.

घटना के चश्मदीद ने कहा- सरकार हम पीड़ितों की मदद नहीं करती

इस घटना के चश्मदीद के अनुसार उग्रवादियों ने आते ही हमपर हमला शुरू कर दिया. इन हमलावरों ने मेरी जमीन कुछ साल पहले ही हड़प ली है और अब वे मुझे मेरे घर से बाहर खदेड़ना चाहते हैं और इस जमीन पर वे खेती करना चाहते हैं. इन हालातों में हमारी मदद के लिए कोई आगे नहीं आया तो फिर सरकार कहां है? सरकार हमारी मदद के लिए आगे क्यों नहीं आई?

वर्ष 2003 में तीन लाख लोगाों की मौत हुई थीउत्तरी दारफुर में 13 जुलाई को उग्रवादियों ने इसी तरह की घटना को अंजाम दिया था जिसके बाद राज्य में आपातकाल की घोषणा कर दी थी. खारतोम सरकार के खिलाफ गैर-अरबी कबीला ने वर्ष 2003 में दारफुर में विद्रोह का झंडा बुलंद किया था. सरकारी बलों और अरबी लड़ाकों ने इस विद्रोह को कुचलने की कोशिश की. संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक इस संघर्ष में करीब 3,00,000 लोगों की मौत हुई थी.

यूएन ने हिंसा के जिम्मेदार लोगों पर मामला चलाने को कहा था

संयुक्त राष्ट्र ने सूडान की सरकार और सरकार समर्थित चरमपंथियों पर दारफ़ुर में आम लोगों को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है लेकिन उसने इस हिंसा को जनसंहार नही कहा है. सूडान पर संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि इस हिंसा के लिए ज़िम्मेदार लोगों के ख़िलाफ़ अंतरराष्ट्रीय अपराध अदालत में मामला चलाया जाए. अगर संयुक्त राष्ट्र इस हिंसा को जनसंहार की संज्ञा देता तो उसे इसके ख़िलाफ़ कार्रवाई करनी पड़ती.

ये भी पढ़ें: ‘हन्ना’ हरिकेन टेक्सास तट से टकराया, मियामी में मचा सकता है तबाही

फेस मास्क पहनना हुआ अनिवार्य तो व्यक्ति ने निजी अंग पर लगाया और घूम आया बाजार

रिपोर्ट में कहा गया है कि सूडान के पश्चिमी क्षेत्र में मानवाधिकार उल्लंघन की गंभीर घटनाएं हुई हैं. सूडान में हो रही हिंसा के कारण 70000 से अधिक लोग मारे गए हैं और पिछले दो साल में क़रीब 20 लाख लोग दारफ़ुर से अपने घर छोड़कर भागे हैं.

! function(f, b, e, v, n, t, s) { if (f.fbq) return; n = f.fbq = function() { n.callMethod ? n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments) }; if (!f._fbq) f._fbq = n; n.push = n; n.loaded = !0; n.version = ‘2.0’; n.queue = []; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e)[0]; s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, ‘script’, ‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’); fbq(‘init’, ‘482038382136514’); fbq(‘track’, ‘PageView’);

Source link

Leave a Reply

Most Popular

%d bloggers like this: