Thursday, October 1, 2020
Home Viral पेट दर्द की शिकायत लेकर अस्पताल पहुंची महिला, डॉक्टरों ने किया चेकअप...

पेट दर्द की शिकायत लेकर अस्पताल पहुंची महिला, डॉक्टरों ने किया चेकअप तो निकली पुरुष | Bengal woman finds out she is a man after 30 yrs has rare condition | ajab-gajab – News in Hindi


फोटो साभारः Pixabay

एक महिला जो 30 साल से एक नॉर्मल लाइफ जी रही थी. न तो कोई प्रॉब्लम थी और न ही किसी तरह की परेशानी, लेकिन अचानक एक दिन उसके पेट (Stomach Pain) में दर्द हुआ और जब वो अस्पताल पहुंची तो डॉक्टर्स भी हैरान हो गए. डॉक्टरों को पता चला कि वो महिला (Women) नहीं बल्कि पुरुष (Men) है.

कोलकाता/नई दिल्ली. एक महिला जो 30 साल से एक नॉर्मल लाइफ जी रही थी. न तो कोई प्रॉब्लम थी और न ही किसी तरह की परेशानी, लेकिन अचानक एक दिन उसके पेट (Stomach Pain) में दर्द हुआ और जब वो अस्पताल पहुंची तो डॉक्टर्स भी हैरान हो गए. डॉक्टरों को पता चला कि वो महिला (Women) नहीं बल्कि पुरुष (Men) है. ये कोई फिल्मी कहानी नहीं है बल्कि हकीकत है. ऐसा एक मामला पश्चिम बंगाल (West Bengal) की राजधानी कोलकाता (Kolkata) में सामने आया है.डॉक्टरों के अनुसार यह एक दुर्लभ केस है और ऐसा मामला 22 हजार लोगों में से एक व्‍यक्‍ति में पाया जा सकता है. आश्चर्यजनक रूप से इस महिला की 28 वर्षीय बहन भी आवश्यक परीक्षणों से गुजरी तो पता चला कि उसे भी “एण्ड्रोजन असंवेदनशीलता सिंड्रोम” की समस्‍या है. यह एक ऐसी अवस्‍था है, जिसमें शारीरिक रूप से महिला के सभी लक्षण होते हैं, लेकिन अनुवांशिक रूप से वह पुरुष होता है.पेट के निचले हिस्से में हुआ दर्द पश्चिम बंगाल के बीरभूमि जिले की 30 साल की महिला की शादी के 9 साल हो गए हैं. कुछ महीने पहले वह पेट के निचले हिस्से में गंभीर दर्द के चलते कोलकाता के नेताजी सुभाष चंद्र बोस कैंसर अस्पताल आई थी. यहां डॉ. अनुपम दत्ता और डॉ. सौमेन दास ने उनका मेडिकल परीक्षण किया और इलाज के दौरान उसकी सही पहचान हो गई.क्या बोले डॉक्टर्स? न्यूज एजेंसी PTI के अनुसार इस मामले पर डॉ दत्ता ने कहा, ‘हमने पेट में दर्द की शिकायत के बाद महिला परीक्षण किया तो पता चला कि उसके शरीर के अंदर अंडकोष हैं. एक बायोप्सी की गई थी, जिसके बाद उसे वृषण कैंसर का इलाज किया गया, जिसे सेमिनोमा भी कहा जाता है. वर्तमान में वह कीमोथेरापी से गुजर रही है और उसकी स्वास्थ्य स्थिति स्थिर है.’ डॉ. दत्ता ने कहा, जैसा कि उसके अंडकोष शरीर के अंदर अविकसित रहे, टेस्टोस्टेरोन का कोई स्राव नहीं था. दूसरी तरफ उसकी महिला हार्मोन ने एक महिला का रूप दिया, रहस्योद्घाटन के बारे में उसकी प्रतिक्रिया पर पूछे जाने पर कहा, एक महिला बड़ी होकर पुरुष हो गई.महिला की मौसियों को भी रही थी ये बीमारी डॉ. दत्‍ता ने कहा, वह लगभग एक दशक से एक व्‍यक्ति के साथ विवाहित है. वर्तमान में हम रोगी और उसके पति की काउंसलिंग कर रहे हैं और उन्हें सलाह देते हैं कि वे जीवन को सामान्‍य ढंग से जारी रखें. अतीत में, दंपति ने कई बार गर्भ धारण करने की कोशिश की थी, लेकिन असफल रहे. ऑन्कोलॉजिस्ट ने कहा कि मरीज की दो मौसियों को भी अतीत में एंड्रोजन असंवेदनशीलता सिंड्रोम का पता चला था.


First published: June 26, 2020, 4:28 PM IST



Source link

Leave a Reply

Most Popular

National Voluntary Blood Donation Day: जानें रक्तदान से जुड़े मिथ और उनकी सच्चाई

हर वर्ष 1 अक्टूबर को भारत में राष्ट्रीय स्वैच्छिक रक्तदान दिवस (National Voluntary Blood Donation Day) मनाया जाता है. साल 1975 में इस दिन...

रवि किशन को मौत की धमकी मिलने के बाद वाई + सिक्योरिटी मिली, ड्रग्स नेक्सस पर अपनी टिप्पणी पोस्ट की: बॉलीवुड समाचार – बॉलीवुड...

बीजेपी सांसद रवि किशन ने हाल ही में बॉलीवुड इंडस्ट्री में ड्रग्स नेक्सस पर कुछ बोल्ड टिप्पणी की थी और उनके...

Entertainment News Live Update: पायल घोष मामले में अनुराग कश्यप से वर्सोवा पुलिस ने की पूछताछ

मुंबई. केंद्रीय गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) ने अनलॉक 5 (Unlock 5) के लिए नई गाइडलाइंस जारी कर दी हैं. केंद्र सरकार ने 15...
%d bloggers like this: