केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, अगले महीने जीएसटी काउंसिल (GST Council) की बैठक होनी है. इस बैठक में टैक्स रेट और स्लैब को लेकर बड़ा फैसला लिया जा सकता है.

News18Hindi
Last Updated:
February 14, 2020, 4:39 PM IST

नई दिल्ली. बजट में इनकम टैक्स (Income Tax) के मोर्चे पर आम लोगों को राहत देने के बाद वस्तु एवं सेवा कर (Goods and Services Tax) के मोर्चे पर बड़ी राहत मिल सकती है. जीएसटी काउंसिल (GST Council) की अगली बैठक अब 14 मार्च को दिल्ली में होनी है. जीएसटी काउंसिल की इस बैठक में जीएसटी रेट और स्लैब (GST Slabs) की समीक्षा की जाएगी. CNBC आवाज़ को सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, जीएसटी रेट और स्लैब की समीक्षा इसलिए की जाएगी, ताकि जीएसटी वसूली बढ़ाने के उपायों को तलाशा जा सके.खाने पीने की वस्तुओं की महंगाई पर होगी नजर सूत्रों के मुताबिक, GST के अंतर्गत मौजूदा 9 दरों की बजाय सरकार सिर्फ 3 दर ही रखना चाहती है. ऐसे में संभव है कि कुल तीन स्लैब 8%, 18% और 28% पर सहमति बनाने की कवायद होगी. हालांकि, इस पूरी कवायद में यह भी ध्यान में रखा जाएगा कि इस बदलाव से खाने-पीने वाली वस्तुओं की महंगाई न बढ़े.@GST_Council की अगली बैठक 14 मार्च को दिल्ली में होगी…बैठक में दरों और मौजूदा स्लैब की समीक्षा की जाएगी…वसूली बढ़ाने के उपायों पर भी चर्चा….@CNBC_Awaaz @FinMinIndia — Alok Priyadarshi (@aloke_priya) February 14, 2020
सरकार फ़ूड इन्फ्लेशन को लेकर विशेष रणनीति अपना सकती है. सरकार चाहती है कि ज्यादातर वस्तुओं के रेट रेवेन्यू न्यूट्रल से थोड़ा ज्यादा रखा जाए.यह भी पढ़ें: वेलेंटाइन डे के दिन 200 में बिकने वाले गुलाब के बिजनेस से करें लाखों की कमाई!
18 फीसदी के दायरे में आ सकती हैं अधिकतर वस्तुएं
प्राप्त जानकारी के मुताबिक खाने-पीने और रोजमर्रा की वस्तुओं को लेकर नया स्लैब बनाने पर विचार किया जा रहा है. संभव है कि ज्यादातर वस्तुओं को 18 फीसदी के टैक्स स्लैब में डाला जा सकता है. वहीं, निचले स्लैब को मिलाकर सिर्फ 8 फीसदी का एक ही स्लैब बनाने पर विचार किया जा रहा है. लग्जरी और डी-मेरिट गुड्स के लिए अधिकतम 28 फीसदी को बरकरार रखा जा सकता है.(आलोक प्रियदर्शी, CNBC आवाज़)यह भी पढ़ें: म्यूचुअल फंड्स की इन SIP स्कीम ने हर तीन साल में पैसे किए डबल, ऐसे उठाए फायदा

Notsocommon पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: February 14, 2020, 4:01 PM IST



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here