सर्वदलीय बैठक में फारूक अब्दुल्ला को छोड़ने की उठी मांग, सभी मुद्दों पर चर्चा को तैयार मोदी सरकार

संसद का शीतकालीन सत्र कल से शुरू होने जा रहा है. संसद सत्र से पहले प्रधानमंत्री मोदी ने सर्वदलीय बैठक बुलाई थी.

लोकसभा (Lok Sabha) में कांग्रेस के नेता रंजन चौधरी ने कहा कि सरकार द्वारा बुलाई गई बैठक में विपक्ष ने मांग की है कि आर्थिक मंदी, बेरोजगारी और कृषि संबंधित मुद्दों पर सत्र के दौरान चर्चा होनी चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated:
    November 17, 2019, 3:23 PM IST

नई दिल्ली. संसद के शीतकालीन सत्र (Winter Session) से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने रविवार को सर्वदलीय बैठक में आश्वासन दिया कि सरकार (Parliament) संसद की शीतकालीन सत्र में सभी मुद्दों पर चर्चा करने के लिए तैयार है. जबकि विपक्ष ने लोकसभा (Lok Sabha) सांसद फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) को हिरासत में रखे जाने का मुद्दा उठाते हुए उन्हें जल्द से जल्द छोड़ने और सदन में भाग लेने की अनुमति देने की मांग की.

लोकसभा में कांग्रेस के नेता रंजन चौधरी ने कहा कि सरकार द्वारा बुलाई गई बैठक में विपक्ष ने मांग की है कि आर्थिक मंदी, बेरोजगारी और कृषि संबंधित मुद्दों पर सत्र के दौरान चर्चा होनी चाहिए. सर्वदलीय बैठक के बाद प्रह्लाद जोशी ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी ने सभी दलों से कहा कि सरकार दोनों सदनों के नियमों के मुताबिक सभी मामलों पर चर्चा करेगी. 27 दलों के साथ हुई बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि सदन का सबसे महत्वपूर्ण काम चर्चा और बहस करना है, जिसे बखूबी निभाया जाना चाहिए. प्रधानमंत्री मोदी ने सभी दलों से अपील की है कि यह सत्र पिछले सत्र से भी बेहतरीन और यादगार होना चाहिए. उन्होंने कहा, सरकार सदन के नियमों और प्रक्रिया के दायरे में सभी मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है. राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा, किसी सांसद को अवैध रूप से हिरासत में कैसे लिया जा सकता है? उसे संसद में भाग लेने की अनुमति दी जानी चाहिए.”

इसे भी पढ़ें :- शीतकालीन सत्र से पहले सर्वदलीय बैठक में विपक्ष की मांग- बेरोजगारी, मंदी और प्रदूषण पर हो चर्चा

बैठक में केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत, राज्यसभा में विपक्ष के उप नेता आनंद शर्मा, तृणमूल कांग्रेस के नेता डेरेक ओ ब्रायन, लोजपा नेता चिराग पासवान और समाजवादी पार्टी के नेता राम गोपाल यादव, तेलुगु देशम पार्टी के जयदेव गल्ला और वी विजयसाई रेड्डी भी शामिल थे. केंद्र सरकार द्वारा बुलाई गई इस बैठक का संचालन संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी और संसदीय कार्य राज्य मंत्री अर्जुन मेघवाल ने किया. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने शनिवार को सभी राजनीतिक दलों से सदन के सुचारू संचालन के लिए सहयोग की अपील की थी.इसे भी पढ़ें :- महाराष्ट्र का महाभारत: संसद में भी दिखेगी दूरी, अब विपक्ष में बैठेंगे शिवसेना के सांसद

बैठक के बाद बिरला ने कहा कि सदन में विभिन्न दलों के नेताओं ने अलग अलग मुद्दों का उल्लेख किया, जिनपर वह 18 नवंबर से 13 दिसंबर तक चलने वाले शीतकालीन सत्र के दौरान सार्थक चर्चा करना चाहते हैं.

(भाषा के इनपुट के साथ)

इसे भी पढ़ें :- शीतकालीन सत्र से पहले नागरिकता संशोधन विधेयक का असम में विरोध प्रदर्शन शुरू

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: November 17, 2019, 3:21 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here