सीएम योगी के मंत्री बोले- अखिलेश सरकार की कारगुजारियों का नमूना है पीएफ घोटाला

बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. सतीश चन्द्र द्विवेदी ने पीएफ घोटाले मामले में अखिलेश सरकार पर साधा निशाना

करोड़ों रुपये के पीएफ घोटाले पर घिरी प्रदेश सरकार का बचाव करते हुए बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. सतीश चन्द्र द्विवेदी ने कहा कि पीएफ घोटाला अखिलेश सरकार की कारगुजारियों का कारनामा है. अखिलेश अपने ही जाल में फंस चुके हैं वह जानते है कि यदि जांच हुई तो दुनिया को पता चल जाएगा कि यह सब उनके समय की कारगुजारी है.

रायबरेली. उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. सतीश चन्द्र द्विवेदी ने पीएफ घोटाले मामले पर जमकर पूर्ववर्ती अखिलेश सरकार को निशाने पर लिया. राज्यमंत्री डॉ. सतीश चन्द्र यहां विद्या भारती पूर्वी उत्तर प्रदेश द्वारा आयोजित तीन दिवसीय क्षेत्रीय ज्ञान-विज्ञान एवं गणित मेले के उदघाटन के लिए आए थे.

प्रार्थनाएं हमें ईश्वर से जोड़ती हैं
बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सतीश चन्द्र द्विवेदी ने विद्या भारती पूर्वी उ0प्र0 द्वारा आयोजित तीन दिवसीय क्षेत्रीय ज्ञान-विज्ञान एवं गणित मेले का शुभारंभ किया. शहर के गोपाल सरस्वती विद्या मन्दिर इण्टर कालेज में आयोजित गणित एवं विज्ञान मेले का राज्य मंत्री ने छात्रों की मौजूदगी में दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम की शुरुआत की. गोपाल सरस्वती इंटर कालेज में आयोजित इस मेले में प्रदेश के 49 जिलों के 650 प्रतिभागी हिस्सा ले रहे है. मंच से छात्रों को संबोधित करते हुए मंत्री सतीश द्विवेदी ने कहा कि लोगों में यह आम धारणा है कि शिशु मंदिरों में प्रार्थनाएं ज्यादा होती है जबकि ऐसा नही है. प्रार्थनाएं हमें ईश्वर से जोड़ती हैं, यहां पर होने वाली शिक्षा भारतीय संस्कृति और विज्ञान का समागम है.

पीएफ घोटाला अखिलेश सरकार की देनबिजली विभाग में हुए करोड़ों रुपये के पीएफ घोटाले पर घिरी प्रदेश सरकार का बचाव करते हुए बेसिक शिक्षा मंत्री ने कहा कि पीएफ घोटाला अखिलेश सरकार की कारगुजारियों का नमूना है. अखिलेश अपने ही जाल में फंस चुके हैं वह जानते है कि यदि जांच हुई तो दुनिया को पता चल जाएगा कि यह सब उनके समय की कारगुजारी है. वहीं जांच तक ऊर्जा मंत्री को हटाए जाने के मामले पर मीडिया के सवालों पर उन्होंने कहा कि इसका फैसला मुख्यमंत्री करेंगे. ऊर्जा मंत्री का बचाव करते हुए वो बोले उन्होंने खुद ही मामले की सीबीआई जांच की मांग की है.

प्रेरणा ऐप की वकालत
वहीं टीचर्स के बायोमेट्रिक उपस्थिति दर्ज करने वाले ‘प्रेरणा एप’ को लेकर भी बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री बोले उन्होंने कहा कि यह एप केवल उपस्थित जांचने का साधन नहीं है इसके लागू होने से विभाग में भारी बदलाव आएगा. अभी जरुर कुछ शिक्षक इसका विरोध कर रहे हैं लेकिन इससे विभाग में पारदर्शिता आएगी और आने वाले समय में शिक्षक इसे समझेंगे.

ये भी पढ़ें- UPPCL पीएफ घोटाला: गिरफ्तार सुधांशु द्विवेदी और पीके गुप्ता की 3 दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायबरेली से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: November 6, 2019, 3:49 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here