Wednesday, October 28, 2020
Home Money Making Tips 10 हजार रुपये का शुरुआती निवेश कर आ भी पा सकते हैं...

10 हजार रुपये का शुरुआती निवेश कर आ भी पा सकते हैं हर महीने 80 हजार रुपये, जानिए स्कीम के बारे में…

नई दिल्ली. अगर आप चाहते हैं कि जिदंगी एक समय के बाद आपको पैसा कमाने के लिए काम ना करना पड़े तो आप इसके लिए म्यूचुअल फंड (Mutual Funds) की एक खास स्कीम को अपना सकते हैं. जी हां…आपको 15 साल तक सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान यानी SIP में निवेश करना होगा. एक्सपर्ट्स बताते हैं कि म्यूचुअल फंड्स की एसआईपी (SIP) में हर माह 10,000 रुपए निवेश शुरू करना होगा. इसके बाद हर साल एसआईपी में अपना 2,000 रुपए बढ़ाना होगा. वहीं, इस पर अगर सालाना 12 फीसदी रिटर्न मिलता है तो 15 साल में आपके फंड (Fund) की वैल्यू कुल 95 लाख रुपए हो जाएगी.

अब आप इस पैसे को सिस्टमैटिक विद्ड्रॉअल प्लान (SWP ) में लगा सकते हैं. इस स्कीम में आपको सालाना 9 फीसदी रिटर्न के हिसाब से हर माह एक तय रकम आपके अकांउट में आती रहेगी. उदाहरण के लिए अगर आप 95 लाख रुपए निवेश करते हैं तो 9 फीसदी सालाना रिटर्न के हिसाब से आपको हर माह लगभग 80 से 85 हजार रुपए हर माह मिलता रहेगा. ये भी पढ़ें: इधर कैश में लेन-देन किया उधर मैसेज पर आ जाएगा इनकम टैक्स का नोटिस, अब होगी रियल टाइम मॉनिटरिंग

अब सवाल उठता हैं कि ये SWP क्या होता हैं…एक्सपर्ट्स कहते हैं कि आप म्यूचुअल फंड (Mutual Funds) से नियमित आमदनी हासिल करने के लिए SWP की मदद ली जा सकती हैं. SWP यानी सिस्टमैटिक विद्ड्रॉल प्लान बिल्कुल SIP की तरह ही होता है. इसमें आप अपना पैसा सिस्टमैटिक तरीके से निकाल सकते हैं. कैश फ्लो बनाए रखना है तो SWP एक बेहतर विकल्प है. SWP से हर महीने तय रकम निकाल सकते हैं.

आपको बता दें कि SWP से मासिक, तिमाही, छमाही, सालाना स्तर पर पैसे मिलेंगे. मौजूदा निवेश से आप रेगुलर इनकम (regular income) ले सकते हैं. इसके लिए अवधि और रकम, आप पहले ही तय कर लेते हैं.

SWP के जरीए एक तय समय पर ऑटोमैटिक पैसे अकाउंट में आ जाते हैं और नियमित अंतराल पर पैसे निकाल सकते हैं. NAV के आधार पर हर महीने पैसे निकालने का विकल्प होता है. इस पैसे को म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं या ख़र्च कर सकते हैं. पैसे आपके फंड से यूनिट्स बिकने से मिलते हैं. फंड में पैसा खत्म होने पर SWP बंद हो जाएगा. ये भी पढ़ें: RBI का नया ऐलान! अब आपको बदलवानी होगी चेक बुक, ये है आखिरी तारीख

एसडब्लूपी स्कीम में निवेश करने पर अगर आपके फंड पर 9 फीसदी से ज्यादा 10 या 12 फीसदी रिटर्न मिलता है तो आप यह अनुरोध कर सकते हैं कि आपका मिलने वाली मंथली रकम बढ़ा दी जाए. हालांकि अगर आपके निवेश पर 9 फीसदी से कम रिटर्न मिलता है तब भी आपको 9 फीसदी सालाना रिटर्न के हिसाब से आपको हर माह पैसा मिलता रहेगा.

क्या है SWP में निवेश पर टैक्स लगता हैं-

इक्विटी में 1 साल से कम पर STCG लगता है. 15% STCG लगेगा. एक साल बाद 10% टैक्स लगता है.
डेट में 3 साल से कम पर STCG. ऐसे में 30 फीसदी STCG लगेगा. 3 साल बाद विद्ड्रॉअल पर 20 फीसदी+इंडेक्सेशन बेनेफिट मिलेगा. नए टैक्स प्रस्ताव से LTCG पर भी लगता है टैक्स. निकाले गए निवेश के मुनाफे पर.

रिटायरमेंट के बाद क्या बेहतर- रिटायरमेंट के बाद डेट फंड्स का पोर्टफोलियो बेहतर. मासिक खर्चों के लिए अल्ट्रा शॉर्ट टर्म फंड में निवेश करें. SWP सुविधा के जरिये मासिक रकम ले सकते हैं. SWP खास तौर से सीनियर सिटीजन के लिए ही है.

ये भी पढ़ें: अब आधार के जरिए तुरंत मिलेगा PAN कार्ड, इस महीने शुरू होगी सुविधा
अब फटाफट क्लियर होगा आपका चेक, सितंबर से पूरे देश में लागू होगा नया सिस्टम

! function(f, b, e, v, n, t, s) { if (f.fbq) return; n = f.fbq = function() { n.callMethod ? n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments) }; if (!f._fbq) f._fbq = n; n.push = n; n.loaded = !0; n.version = ‘2.0’; n.queue = []; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e)[0]; s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, ‘script’, ‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’); fbq(‘init’, ‘482038382136514’); fbq(‘track’, ‘PageView’);



Source link

Source link

Leave a Reply

Most Popular

दुनिया के 12 ऐसे देश जहां गर्भपात कराना है बड़ा अपराध,हो सकती है 30 साल की कैद

साल 2015 की Pew रिसर्च सेंटर एनालिसिस की एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया के ज्यादातर देश, आंकड़ों के हिसाब से कहें तो 96% किसी...

कहां पैदा हुए थे ईसा, किस महिला ने जीते 2 नोबेल, 100 में 99 देते हैं गलत जवाब

वयोवृद्ध ऑनलाइन क्विज निर्माता (online quiz maker) कोडी क्रॉस ने अमेरिका (America) स्थित ट्रिविया साइट प्लेबज़ पर ये 23 उलझाने वाले सवाल पूछे हैं...

एचआईवी एड्स होने पर घबराएं नहीं, ऐसे रखें मरीज का ख्याल

अगर सही समय पर एचआईवी संक्रमण (HIV Infection) का पता न चले और उचित इलाज नहीं किया जाए, तो व्यक्ति में एड्स (AIDS) का...
%d bloggers like this: