असम विधानसभा में विपक्ष का प्रदर्शन, राज्यपाल को बीच में रोकना पड़ा भाषण

कांग्रेस और आईयूडीएफ ने भाजपा सरकार के खिलाफ नारेबाजी की जिसकी वजह से राज्यपाल को बीच में ही भाषण समाप्त करना पड़ा (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कांग्रेस और ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (All India United Democratic Front) के सदस्यों ने हाथों में पोस्टर और तख्तियां ली थीं और वे आसन के समक्ष आकर नारेबाजी कर रहे थे.

गुवाहाटी. असम विधानसभा (Assam Assembly) में सोमवार को राज्यपाल जगदीश मुखी के भाषण के दौरान विपक्षी कांग्रेस (Congress) और एआईयूडीएफ (AIUDF) ने राज्य की भाजपा (BJP) नीत सरकार के खिलाफ नारेबाजी की जिसकी वजह से राज्यपाल को बीच में ही भाषण समाप्त करना पड़ा.

एक दिन के विशेष सत्र को राज्यपाल ने जैसे ही संबोधित करना शुरू किया, विपक्षी सदस्य खड़े हो गए और संशोधित नागरिकता कानून (Citizenship Amendment Act) और पिछले महीने इस कानून के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान पुलिस गोलीबारी में पांच लोगों की मौत के विरोध में प्रदर्शन करने लगे.

आसन के पास हुई नारेबाजी
कांग्रेस और ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (All India United Democratic Front) के सदस्यों ने हाथों में पोस्टर और तख्तियां ली थीं और वे आसन के समक्ष आकर नारेबाजी कर रहे थे.हंगामे की वजह से राज्यपाल की आवाज सुनाई नहीं दे रही थी जिसके चलते कुछ मिनटों में ही उन्होंने अपना भाषण खत्म कर दिया. विधानसभा अध्यक्ष हितेन गोस्वामी ने मुखी के भाषण को पढ़ा हुआ मान लेने की घोषणा की.

राज्यपाल ने बताई सरकार की प्राथमिकता
बाद में मीडिया को उपलब्ध कराई गई भाषण की प्रति के मुताबिक राज्यपाल ने कहा कि असम के मूल लोगों के अधिकारों को सुरक्षित रखना और उनकी पहचान एवं विरासत को संरक्षण देना सरकार की पहली प्राथमिकता है.उन्होंने कहा कि सतरस (15वीं शताब्दी में स्थापित वैष्णव मठ) सहित सभी धार्मिक स्थलों से अवैध कब्जा हटाने के लिए असम भूमि एवं राजस्व नियमन कानून-1886 में संशोधन किया गया है.

मुखी ने कहा कि केंद्र सरकार ने असम समझौते की धारा-छह को लागू करने के लिए उच्च स्तरीय समिति गठित की है जो जल्द ही अपनी रिपोर्ट सौंपेगी. यह धारा असमी लोगों की सामाजिक, सांस्कृतिक और भाषायी पहचान एवं विरासत की रक्षा के लिए संवैधानिक, विधायी और प्रशासनिक प्रावधान करने के अधिकार देती है.

इसके साथ ही राज्यपाल ने असम सरकार की ओर से विकास के लिए किए गए कार्यों एवं योजनाओं का भी उल्लेख किया.

ये भी पढ़ें- 
CAA के खिलाफ विपक्ष के प्रस्ताव ने पाकिस्तान को खुश कर दिया होगा: BJP

असम के हितों पर गठित गृह मंत्रालय की समिति ने अमित शाह को दी प्रगति रिपोर्ट

Notsocommon पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: January 13, 2020, 9:16 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here