Friday, September 25, 2020
Home Health Health Care / स्वास्थ्य Coronavirus United States Latest Research Updates On Nanosponges | बाल से 30...

Coronavirus United States Latest Research Updates On Nanosponges | बाल से 30 गुना छोटे नैनोस्पंज के कण से कोरोना को खींचकर मारने की तैयारी, ये वायरस को सोख कर खत्म करेगा


  • कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के मुताबिक, नैनोस्पंज कोविड-19 से बचाने के लिए थैरेपी की तरह काम कर सकते हैं
  • शोधकर्ताओं के मुताबिक, नैनोस्पंज 90% तक वायरस के संक्रमण करने की क्षमता को कमजोर कर देता है

दैनिक भास्कर

Jun 19, 2020, 05:53 AM IST

अमेरिकी शोधकर्ताओं ने ऐसे स्पंज कण (नैनोस्पंज) तैयार किए हैं, जो फेफड़ों और इम्यून सेल्स को ढंकते हैं। ये कण इंसानी बालों की चौड़ाई से 30 गुना महीन हैं और कोरोनावायरस को अपनी ओर आकर्षित करके खींच लेते हैं। नैनोस्पंज कोरोनावायरस और उसके जहरीले तत्व को सोखता है। रिसर्च करने वाली कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं का कहना है कि ये कण कोविड-19 से बचाने के लिए थेरेपी की तरह काम कर सकते हैं। 

वायरस को 90% तक कमजोर बना देता है
शोधकर्ताओं का कहना है कि रिसर्च में सामने आया है कि नैनोस्पंज ने कोरोनावायरस को न्यूट्रिलाइज किया। ऐसा करने पर वायरस इंसानी कोशिकाओं को संक्रमित नहीं कर पाया। इसे लैब में तैयार किया गया है, जो फेफड़े और इम्यून सिस्टम की कोशिकाओं के साथ मिलकर बनाया गया है। रिसर्च के दौरान सामने आया कि यह 90% तक वायरस के संक्रमण करने की क्षमता को कमजोर कर देता है। 

वैज्ञानिकों ने कोरोना के टारगेट को समझ लिया
शोधकर्ता और नैनो इंजीनियरिंग विशेषज्ञ लियानफैंग झैंग का कहना है कि आमतौर पर दवा विकसित करने वाले वैज्ञानिक वायरस के उस टारगेट को ढूंढते हैं, जहां ड्रग असर कर सके। लेकिन हमारा तरीका अलग है। हमे सिर्फ यह पता लगाया कि कोरोना किस कोशिका को संक्रमण के लिए टारगेट करता है। उसी कोशिका को सुरक्षित करके लिए हमने काम किया। 

नैनोस्पंज सायटोकाइन स्टॉर्म को भी कंट्रोल करता है
शोधकर्ताओं के मुताबिक, नैनोस्पंज को इस तरह विकसित किया गया है कि ये हमारी स्वस्थ कोशिकाओं को नुकसान नहीं पहुंचाता। यह उनकी रक्षा करता है जिसे वायरस संक्रमित करता है।

कोरोना के कुछ मरीजों में शरीर को बचाने वाला इम्यून सिस्टम उल्टा काम करने लगता है और नुकसान पहुंचाता है, इस स्थिति को सायटोकाइन स्टॉर्म कहते हैं। जो मौत का खतरा बढ़ाता है। शरीर को नुकसान पहुंचाने वाली ऐसी इम्यून कोशिकाओं को भी यह स्पंज खुद में सोख कर खत्म करता है।

अलग-अलग क्षमता वाले नैनोस्पंज बनाए गए

शोधकर्ताओं के मुताबिक, नैनोस्पंज के चारों ओर पॉलिमर की कवरिंग है, जिसे फेफड़ों की बाहरी कोशिकाओं की मदद से बनाया गया है। शोधकर्ताओं ने अलग-अलग क्षमता वाले नैनोस्पंज तैयार किए हैं, जिसकी टेस्टिंग सॉल्यूशन में मौजूद कोरोनावायरस पर की गई है।



Source link

Leave a Reply

Most Popular

होमगार्ड और बाइक चालक युवकों में बीच सड़क हुई जमकर फाइट|viral Videos in Hindi – हिंदी वीडियो, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी वीडियो में

चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी...

रिया चक्रवर्ती और शोविक चक्रवर्ती की जमानत याचिका पर सुनवाई 29 सितंबर के लिए स्थगित; वकील ने गिरफ्तारी की वैधता का तर्क दिया:...

रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शोविक चक्रवर्ती फिलहाल न्यायिक हिरासत में हैं। सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच से...
%d bloggers like this: