Sunday, September 27, 2020
Home समाचार Eco Friendy: अब चमड़ों की बजाय मशरूम से बनेंगे जूते, हैंडबैग्स और...

Eco Friendy: अब चमड़ों की बजाय मशरूम से बनेंगे जूते, हैंडबैग्स और कपड़े

Eco Friendy: अब चमड़ों की बजाय मशरूम से बनेंगे जूते, हैंडबैग्स और कपड़े

मशरूम से जूते बनाए जाएंगे जूते, हैंगबैग और कपड़े

अब चमड़े (leather) से बने जूते (shoes) , हैंडबैग्स (Handbags) और कपड़ों (Clothes) को विदाई दे दी जाएगी. दरअसल एक अध्ययन में यह दावा किया गया है कि फैशन सामग्री जूते, बैग्स और कपड़े चमड़ों की बजाय मशरूम (Mushrooms) से बनाए जा सकेंगे.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    September 8, 2020, 9:45 PM IST

वियना. पर्यावरण मित्र को ध्यान में रखकर अब चमड़े (leather) से बने जूते (shoes) , हैंडबैग्स (Handbags) और कपड़ों (Clothes) को विदाई दे दी जाएगी. दरअसल एक अध्ययन में यह दावा किया गया है कि फैशन सामग्री जूते, बैग्स और कपड़े चमड़ों की बजाय मशरूम (Mushrooms) से बनाए जा सकेंगे. शोधकर्ताओं का कहना है कि चमड़े को टक्कर देने के लिए एक पदार्थ को सख्त बनाने के लिए मशरूम को दबाया जा सकता है और रासायनिक रूप से उसे संसाधित करके इस्तेमाल में लाया जा सकता है.

पारंपरिक चमड़े और इसके विकल्प आमतौर पर जानवरों और सिंथेटिक पॉलीमर से प्राप्त किए जाते हैं. दरअसल, सभी पशुओं पर निर्भर उद्योगों के साथ चमड़े का उत्पादन, पर्यावरण के लिए बुरा है. इसके लिए बहुत सारी भूमि और संसाधनों की आवश्यकता होती है और कार्बन डाइऑक्साइड जैसे ग्रीनहाउस गैसों की उच्च मात्रा का उत्पादन होता है.

मशरूम बायोडिग्रेडेबल भी है

ऑस्ट्रिया के राजधानी स्थित वियना विश्वविद्यालय से अध्ययन के सह-लेखक प्रोफेसर अलेक्जेंडर बिस्मार्क ने कहा कि यह वह जगह है जहां मशरूम से चमड़े जैसी सामग्री खेलने में काम आती है. यह सामान्य रूप से, सीओ 2 न्यूट्रल और साथ ही साथ अंत में बायोडिग्रेडेबल हैं.बायोमास की पूरी शीट कुछ हफ्तों में हो जाती है तैयार

चमड़े के विकल्प फफूंद से कम लागत वाले कृषि और वानिकी उपोत्पाद जैसे चूरा से उत्पादित किए जा सकते हैं. ये मायसेलियम की वृद्धि के लिए एक चारे के रूप में काम करते हैं. मायसेलियम शीट की तरह बढ़ता है और कुछ हफ्तों में इस बायोमास की कटाई की जा सकती है.

ये भी पढ़ें: चीन में खुजली करने के दौरान गुप्तांग में घुसा बीयर गिलास, ऑपरेशन के बाद मिली राहत 

‘शार्ली एब्दो’ ने फिर छापी मोहम्मद साहब की कार्टून, पाकिस्तान में जोरदार प्रोटेस्ट

इस रिसर्च का नेतृत्व कर रहे प्रोफेसर बिस्मार्क ने कहा कि परिणाम के तौर पर कवक बायोमास की ये शीट चमड़े की तरह दिखती हैं और तुलनीय सामग्री और स्पर्श गुणों को प्रदर्शित करती हैं.
एक बायोटेक कंपनियां पहले से ही कवक से प्राप्त होने वाली सामग्री की मार्केटिंग कर रही हैं. शोधकर्ताओं ने सफेद बटन जैसे दिखने वाले मशरूम के से इन्सुलेशन के लिए कागज और फोम जैसी निर्माण सामग्री बनाई है.

Source link

Leave a Reply

Most Popular

Wipro Service Desk Hiring for 2020 Graduates (Engineering)

Apply for the job now! Job title: Wipro Service Desk Hiring for 2020 Graduates (Engineering) Company: Wipro Apply for the job now! Job description: (Candidates from Diploma/ME/ MTech/...

सोनारिका की फोटो पर यूजर ने किया कमेंट- इतना ढीला जींस, कुछ खाती नहीं हो क्या?

CNN name, logo and all associated elements ® and © 2017 Cable News Network LP, LLLP. A Time Warner Company. All rights reserved....

गांव में मगरमच्छ के आने से मचा हड़कंप|viral Videos in Hindi – हिंदी वीडियो, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी वीडियो में

चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी...
%d bloggers like this: