• प्रथम पूज्य गणपति की सदियों पुरानी प्रतिमा ईरान, अफगानिस्तान, इंडोनेशिया में भी मिली हैं…
  • अंतरराष्ट्रीय आदि देव हैं गणेश, सिंधु घाटी से लेकर माया संस्कृति तक में गणेश पूजा के प्रमाण

Dainik Bhaskar

Sep 02, 2019, 02:46 PM IST

नई दिल्ली/भोपाल. गणेश अनादि हैं। इतिहास में भी इसके साक्ष्य हैं। उनकी पूजा के प्रमाण आज से 5000 साल पहले से मिलने लगते हैं। वे अलग-अलग रूपों में विभिन्न संस्कृतियों में हैं। जापान में उन्हें कांगीतेन कहा जाता है। चीन, अफगानिस्तान, ईरान, और मैक्सिको की माया संस्कृति तक में उनकी मूर्तियां मिली हैं।


  • ईरान में 3200 साल पुरानी गणेश प्रतिमा मिली

    ईरान में 3200 साल पुरानी गणेश प्रतिमा मिली


  • अफगान में भी गणेशजी प्रतिमा स्थापित की गई थी

    अफगान में भी गणेशजी प्रतिमा स्थापित की गई थी


  • चीन और जापान में गणेश पेंटिंग मिलीं

    चीन और जापान में गणेश पेंटिंग मिलीं


  • गणेश के आठ अवतार

    गणेश के आठ अवतार


  • गणेशजी के वाहनों में चलने, उड़ने और तैरने वाले तीनों साधन

    गणेशजी के वाहनों में चलने, उड़ने और तैरने वाले तीनों साधन


  • उड़ने वाला मयूर वाहन

    उड़ने वाला मयूर वाहन


  • तैरने वाला शेषनाग वाहन

    तैरने वाला शेषनाग वाहन


  • तमिल में गणेश पिल्लै हैं, तेलुगु में विनायाकुडू





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here