मुंबई के अलग-अलग गणेश मंडल गणेश उत्सव को स्थगित करने का फैसला ले सकते हैं।

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

कोरोना वायरस का असर बड़े उत्सवों और त्योहारों पर पड़ रहा है। अब मुंबई में मनाए जाने वाले सबसे बड़े त्योहार गणेश उत्सव पर कोराना वायरस का साया है। इस वर्ष 22 अगस्त से गणेश उत्सव शुरू होना है लेकिन कोरोना संकट को देखते हुए यह उत्सव स्थगित किया जा सकता है। प्रत्येक वर्ष भाद्रपद महीने के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि पर गणेश जयंती मनाई जाती है। मुंबई में यह गणेश उत्सव के रूप में 10 दिनों तक चलता है। इस बार कोरोना काल में गणेश उत्सव को लेकर असमंजस की स्थिति पैदा हो गई है। मुंबई के अलग-अलग गणेश मंडल गणेश उत्सव को स्थगित करने का फैसला ले सकते हैं।Pradosh Vrat 2020: प्रदोष व्रत आज, इस पूजा विधि से पाएं भोलेनाथ का आशीर्वादगणेश मंडलों के सदस्यों का कहना है कि मुंबई में फैले कोरोना वायरस के चलते गणेश उत्सव मनाने का सही समय नहीं है। विभिन्न मंडलों का मत है गणेश जयंती का उत्सव को आगे बढ़ाया जा सकता है। अगले साल 15 फरवरी को माघी गणेश जयंती है ऐसे में यह उत्सव इसी तिथि पर मनाया जा सकता है।देशभर में सबसे आर्कषक ढ़ंग से गणेश उत्सव का त्योहार मुंबई में ही बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। यह उत्सव 10 दिनों तक चलता है जिसमें लोग अपने घरों पर गणेश प्रतिमा स्थपित करते हैं। इलाके के अलग-अलग गणेश मंदिरों में बड़े-बड़े गणेश  पांडाल बनाए जाते हैं जिसमें सबसे ज्यादा लाल बाग के राजा का पंडाल आकर्षण का केंद्र रहता है। इन पांडालों में लाखों की संख्या में लोगों की भीड़ एकत्रित होती है। जिसमें राजनेता और बॉलीवुड के सितारे भी गणेश जी के दर्शन और उनका आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। लोग अपने घरों पर एक,पांच और 10 दिनों तक घरों में गणेश प्रतिमा स्थपित कर विधिवत भगवान गणेश की पूजा करने के बाद 11वें दिन विसर्जन कर दिया जाता है।

कोरोना वायरस का असर बड़े उत्सवों और त्योहारों पर पड़ रहा है। अब मुंबई में मनाए जाने वाले सबसे बड़े त्योहार गणेश उत्सव पर कोराना वायरस का साया है। इस वर्ष 22 अगस्त से गणेश उत्सव शुरू होना है लेकिन कोरोना संकट को देखते हुए यह उत्सव स्थगित किया जा सकता है। प्रत्येक वर्ष भाद्रपद महीने के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि पर गणेश जयंती मनाई जाती है। मुंबई में यह गणेश उत्सव के रूप में 10 दिनों तक चलता है। इस बार कोरोना काल में गणेश उत्सव को लेकर असमंजस की स्थिति पैदा हो गई है। मुंबई के अलग-अलग गणेश मंडल गणेश उत्सव को स्थगित करने का फैसला ले सकते हैं।

Pradosh Vrat 2020: प्रदोष व्रत आज, इस पूजा विधि से पाएं भोलेनाथ का आशीर्वाद

गणेश मंडलों के सदस्यों का कहना है कि मुंबई में फैले कोरोना वायरस के चलते गणेश उत्सव मनाने का सही समय नहीं है। विभिन्न मंडलों का मत है गणेश जयंती का उत्सव को आगे बढ़ाया जा सकता है। अगले साल 15 फरवरी को माघी गणेश जयंती है ऐसे में यह उत्सव इसी तिथि पर मनाया जा सकता है।

देशभर में सबसे आर्कषक ढ़ंग से गणेश उत्सव का त्योहार मुंबई में ही बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। यह उत्सव 10 दिनों तक चलता है जिसमें लोग अपने घरों पर गणेश प्रतिमा स्थपित करते हैं। इलाके के अलग-अलग गणेश मंदिरों में बड़े-बड़े गणेश  पांडाल बनाए जाते हैं जिसमें सबसे ज्यादा लाल बाग के राजा का पंडाल आकर्षण का केंद्र रहता है। इन पांडालों में लाखों की संख्या में लोगों की भीड़ एकत्रित होती है। जिसमें राजनेता और बॉलीवुड के सितारे भी गणेश जी के दर्शन और उनका आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। लोग अपने घरों पर एक,पांच और 10 दिनों तक घरों में गणेश प्रतिमा स्थपित कर विधिवत भगवान गणेश की पूजा करने के बाद 11वें दिन विसर्जन कर दिया जाता है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here