• योग में सांस लेने और छोड़ने का रोल अहम है, इसलिए हड़बड़ी में प्राणायाम और योगासन न करें
  • योग को कार्डियो और स्ट्रेंथ वर्कआउट की तरह भी कर सकते हैं, बशर्ते इसे करने का तरीका सही होना चाहिए

Dainik Bhaskar

Jun 20, 2019, 09:05 PM IST

हेल्थ डेस्क. योग के फायदे पाने के लिए जितना जरूरी पॉश्चर है उतना ही अहम है छोटी-छोटी बातें, जिसे अक्सर लोग नजरअंदाज कर देते हैं। जैसे योग करने के लिए जगह कैसी होनी चाहिए, योगासनों को करने का बेसिक तरीका क्या है। ऐसे ही तमाम सवालों के जवाब भास्कर ने योग विशेषज्ञ से जाने। राजस्थान की पहली योग ओपीडी के हेड डॉ. धीरज जैफ बता रहे हैं, योग करने से पहले किन बातों को जानना जरूरी है।

योग करने से पहले ये 5 नियम समझें


  1. पहला नियम : शांत माहौल और मैट होना जरूरी

    योग करने के लिए ऐसी जगह चुनें जो शांत हो ताकि ध्यान केंद्रित किया जा सके। हल्की आ‌वाज में मन को शांत करने वाला म्यूजिक चला सकते हैं। योग कभी सीधे फर्श पर न करें, इसके लिए योगा मैट, दरी या कालीन का प्रयोग करें। योग करते समय थोड़े ढीले कॉटन के कपड़े पहनना बेहतर रहता है। टी-शर्ट व ट्रैक पैंट भी पहन सकते हैं।


     


    ''

     


  2. दूसरा नियम : ध्यान उन हिस्सों पर लगाएं, जहां असर हो रहा है

    योग के बेहतर असर के लिए आंखें बंद करें और ध्यान शरीर के उन हिस्सों पर लगाएं, जहां आसन का असर हो रहा है यानी दबाव पड़ रहा है। योग में सांस लेने और छोड़ने का रोल अहम है। ध्यान रखें जब भी शरीर फैलाएं या पीछे की तरफ जाएं, सांस लें और जब भी शरीर सिकुड़े या आगे की ओर झुकें, सांस छोड़ते हुए झुकें।


     


    ''

     


  3. तीसरा नियम : समझें आसन कब धीरे और कब तेज करें

    आसन धीरे और तेजी से करना दोनों फायदेमंद है। अगर इसे जल्दी किया तो यह कार्डियो की तरह काम करता है जो हार्ट के लिए फायदेमंद हैं। धीमी गति से करेंगे तो यह स्ट्रेंथ वर्कआउट का काम करता है और यह मांसपेशियों को फायदा पहुंचाता है। 


     


    ''

     


  4. चौथा नियम: तुरंत असर न दिखने पर योग करना छोड़े नहीं

    योगासन का असर दिखने में वक्त लगता है। यह योग करने का तरीका, शरीर और किस लिए किया जा रहा है, इस पर भी निर्भर करता है। इसलिए कम से कम खुद को 6 माह का समय और देखें कि असर हो रहा है या नहीं। अगर योग के साथ कोई दवा ले रहे हैं तो इसे बंद न करें। डॉक्टरी सलाह से फैसला लें। योगासन करते हैं तो भी खाने पर कंट्रोल जरूरी है। अगर अधिक वसा वाला भोजन या जंक फूड या तेज मिर्च-मसाले वाला खाना खाते रहेंगे तो योग का खास असर नहीं होगा। 


     


    ''

     


  5. पांचवा नियम : योगासन और खानपान के बीच गैप रखें

    योगासनों को सुबह या शाम कभी भी किया जा सकता है लेकिन ध्यान रखें भरे पेट ऐसा न करें। खाना खाने के 3-4 घंटे बाद या स्नैक्स करने के एक घंटा बाद करें। लिक्विड चीजें जैसे छाछ या चाय ली है तो आधा घंटे का अंतराल जरूरी है। पानी पीने के 15 मिनट बाद योग कर सकते हैं।


     


    ''

     



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here