Friday, September 18, 2020
Home Health Health Care / स्वास्थ्य Influenza drug Eumifenovir will be tested on patients in Corona, Central Drug...

Influenza drug Eumifenovir will be tested on patients in Corona, Central Drug Research Institute, Lucknow gets approval | इंफ्लुएंजा की दवा यूमिफेनोवीर का कोरोना के मरीजों पर होगा ट्रायल, लखनऊ के सेंट्रल ड्रग रिसर्च इंस्टीट्यूट को मिली मंजूरी


  • चीन और रशिया में यूमिफेनोवीर का इस्तेमाल इंफ्लुएंजा के इलाज में होता है, कुछ रिसर्च में इसका कोविड-19 के मरीजों पर बेहतर असर देखा गया है
  • ट्रायल लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, डॉ. राम मनोहर लोहिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस और एरा लखनऊ मेडिकल कॉलेज में होगा​​​​

दैनिक भास्कर

Jun 19, 2020, 03:26 PM IST

देश में इंफ्लुएंजा एंजा की दवा यूमिफेनोवीर का कोरोना मरीजों पर तीसरे चरण का ट्रायल शुरू होगा। इस दवा का इस्तेमाल चीन और रशिया इंफ्लुएंजा के इलाज में करता है। यूमिफेनोवीर का बड़ी संख्या में कोरोना के मरीजों पर असर जानने के लिए लखनऊ का सेंट्रल ड्रग रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीडीआरआई) ट्रायल शुरू करेगा। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया की तरफ से अप्रूवल मिल चुका है। 

यह ड्रग कोशिकाओं में कोरोना की एंट्री को रोकता है
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की ओर से जानी एक बयान के मुताबिक, ट्रायल के लिए लखनऊ के कुछ मेडिकल कॉलेज चुने गए हैं। इनमें किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, डॉ. राम मनोहर लोहिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, एरा लखनऊ मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल शामिल है। 
सुरक्षा के लिए लिहाज से यूमिफेनोवीर बेहतर ड्रग है। यह इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाकर इंसानी कोशिका में कोरोना की एंट्री को रोकता है। हालांकि इस ड्रग को अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने इंफ्लुएंजा के इलाज के लिए अप्रूव नहीं किया है। 

सुरक्षित दवा साबित होगी
सीडीआरआई के डायरेक्टर तपस कुंडू का कहना है कि ड्रग को बनाने में इस्तेमाल होने वाले सभी रॉ मैटेरियल देश में उपलब्ध हैं। अगर क्लीनिकल ट्रायल सफल होता है तो यूमिफेनोवीर एक सुरक्षित दवा साबित हो सकती है। बचाव के लिए इस दवा को इस्तेमाल करने पर बेहतर असर देखा गया है। 

ट्रायल में सीएसआईआर के वैज्ञानिक भी शामिल

सीडीआरआई काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (सीएसआईआर) के तहत काम करता है। सीएसआईआर के डायरेक्टर जनरल डॉ. शेखर मांडे का कहना है कि क्लीनिकल ट्रायल पहले से मौजूद का दवा का कोरोना के मरीजों पर इस्तेमाल करने की एक रणनीति है। ट्रायल करने वाली टीम में सीएसआईआर और सीडीआरआई के वैज्ञानिक शामिल हैं। इनमें नीलंजन मजूमदार, अजय कुमार श्रीवास्तव, चंद्र भूषण त्रिपाठी, नयन घोष के अलावा नोडल साइंटिस्ट डॉ. रविशंकर रामचंद्रन शामिल हैं।



Source link

Leave a Reply

Most Popular

दूध पचने में होती है दिक्कत? लैक्टोज इनटॉलरेंस की समस्या तो नहीं…

कई लोगों को यह कहते हुए सुना होगा कि उन्हें दूध पीना सूट नहीं होता या उन्हें दूध पचता नहीं है. ऐसे कई लोग...

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी – तनिष्ठा चटर्जी की रोम रोम में और विद्या बालन की नटखट के साथ लंदन में प्रदर्शित होने वाली भारतीय फ़िल्म महोत्सव...

बागड़ी फाउंडेशन लंदन इंडियन फिल्म फेस्टिवल (LIFF) और बर्मिंघम इंडियन फिल्म फेस्टिवल (BIFF), एक साथ यूरोप के सबसे बड़े भारतीय फिल्म...

सोनारिका भदौरिया की बोल्ड Photos देखकर ट्रोल ने किया बॉडी शेम, मिला ऐसा जवाब

CNN name, logo and all associated elements ® and © 2017 Cable News Network LP, LLLP. A Time Warner Company. All rights reserved....
%d bloggers like this: