JNU प्रशासन ने टीचरों के लिए जारी की यह खास एडवाइजरी, नौकरी को लेकर किया बड़ा कमेंट  

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी. (फाइल फोटो)

टीचरों की यूनियन जनूटा (Januta) की असहयोग की अपील का जिक्र करते हुए प्रशासन ने कहा है कि यह टीचरों के साथ हुए अनुबंध का उल्लघंन है.

  • News18Hindi
  • Last Updated:
    January 13, 2020, 1:28 PM IST

नई दिल्ली. जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) प्रशासन ने टीचरों (Teachers) के रुख पर एक एडवाइजरी (Advisory) जारी की है. एडवाइजरी खासतौर से टीचरों के लिए जारी की गई है. टीचरों से अपील की गई है कि वह जल्द से जल्द अपनी क्लास (Class) शुरु करें. वहीं टीचरों की यूनियन जनूटा (Januta) की असहयोग की अपील का जिक्र करते हुए प्रशासन ने कहा है कि यह टीचरों के साथ हुए अनुबंध का उल्लघंन है. वहीं एग्जाम रजिस्ट्रेशन (Exam Registration) के बारे में प्रशासन का कहना है कि हजारों छात्र रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं और बाकी रह गए छात्र करा रहे हैं.

वीसी का इस्तीफा मांग रहे हैं शिक्षक

साबरमती हॉस्टल के पास टी पाइंट पर हुए हमले के बाद से जेएनयू के टीचर वाइस चांसलर जगदीश कुमार का इस्तीफा मांग रहे हैं. टीचरों का आरोप है कि अंदर मौजूद लोगों की मदद से बाहर से लड़के आते हैं. टीचरों सहित छात्रों पर हमला करते हैं. उनके साथ मारपीट करते हैं. हॉस्टल में तोड़फोड़ करते हैं. उसके बाद पुलिस की मदद से बिना किसी परेशान और जांच के बाहर निकल जाते हैं या इधर-उधर भाग जाते हैं. लेकिन मौके पर मौजूद दिल्ली पुलिस खामोश बनी रहती है.

इसलिए टीचरों को नौकरी की याद दिला रहा जेएनयू प्रशासनजेएनयू में हुई हिंसा के बाद यूनिवर्सिटी के टीचरों की संस्था जनूटा की एक मीटिंग हुई थी. मीटिंग में तय किया गया था कि असयोग मूवमेंट चलाया जाएगा. किसी भी काम में सहयोग नहीं किया जाएगा. जनूटा अपने इसी फैसले पर काम कर रही थी. लेकिन सोमवार को रजिस्टार ने इस संबंध में एक एडवाइजरी जारी की है.

टीचर्स की याचिका पर सुनवाई

दिल्ली हाईकोर्ट जेएनयू के तीन प्रोफेसरों की याचिका पर सुनवाई कर रहा था. इस याचिका में जनवरी 5 को हुई हिंसा से संबंधित सभी वीडियोज को संरक्षित करने की मांग की गई थी. इसे साथ ही दिल्ली पुलिस ने हाईकोर्ट में बताया कि हिंसा के सीसीटीवी फुटेज के लिए विश्वविद्यालय को पहले ही कहा जा चुका है लेकिन उनका अभी तक कोई जवाब नहीं आया है.वॉट्सएप और एप्पल से कहा चैट भी रखें सुरक्षित

हाईकोर्ट ने एप्पल कंपनी और वॉट्सएप से कहा है कि लोगों के बीच हुई चैट के जरिए बातचीत को भी संरक्षित रखा जाए. इससे हिंसा से संबंधित अहम सुराग मिल सकते हैं. साथ ही वीडियोज और अन्य रिकॉर्डिंग को भी संरक्षित करने के आदेश दिए गए हैं.

कई छात्र हुए थे घायल

गौरतलब है कि 5 जनवरी को जेएनयू कैंपस में भड़की हिंसा में कई छात्र घायल हो गए थे. इस वारदात के बाद से ही देश भर में विरोध प्रदर्शनों का दौर शुरू हो गया है. इस हिंसा के बाद मामला क्राइम ब्रांच के पास जांच के लिए पहुंचा और इसके लिए एसआईटी का गठन किया गया. अब एसआईटी इस मामले में आरोपी छात्रों से पूछताछ शुरू करने जा रही है.

ये भी पढ़ें-  6 बड़े मुस्लिम संगठनों ने की बैठक, JNU हमले पर कही यह बड़ी बात…

मोदी सरकार का बड़ा कदम, हज यात्रा में यह सुविधा देने वाला भारत दुनिया का पहला देश

Delhi Assembly Election: सुबह 3 बजे तक चली शाह की बैठक, अब शाम 7 बजे पीएम मोदी करेंगे मीटिंग

Notsocommon पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: January 13, 2020, 1:28 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here