Monday, September 21, 2020
Home Health Health Care / स्वास्थ्य Morning Yoga: फ्लेक्सिबल बॉडी बनाए रखने को रुटीन में शामिल करें ये...

Morning Yoga: फ्लेक्सिबल बॉडी बनाए रखने को रुटीन में शामिल करें ये योगासन

इन योगासन (Yoga Posture) को करने से बीमारियां (Diseases) दूर रहेंगी और दिन भर आप खुद को रिफ्रेश महसूस करेंगे. इनको करने से मांसपेशियों (Muscles) में खिंचाव आता है, जिससे शरीर लचीला बनता है. साथ ही टांगों के अलावा रीढ़ की हड्डी में मजबूती आती है.

 शरीर को सेहतमंद (Healthy) बनाए रखने और बीमारियों (Diseases) से दूर रहने के लिए कई तरह के योगासन किए जाते हैं. योगासन बढ़ते वजन को कम करने में मदद करते हैं और पाचनतंत्र (Digestive System) को बेहतर बनाए रखने के लिए भी ये बहुत जरूरी हैं. इसके अलावा फ्लेक्सिबल बॉडी (flexible Body) यानी लचीला शरीर बनाए रखने में भी ये मददगार होते हैं. आज हम आपको तीन ऐसे योगासन बताने जा रहे हैं. इन्‍हें करने के बाद आपका शरीर लचीला बना रहेगा. फोटो साभार/इंस्‍टाग्राम

शरीर को सेहतमंद (Healthy) बनाए रखने और बीमारियों (Diseases) से दूर रहने के लिए कई तरह के योगासन किए जाते हैं. योगासन बढ़ते वजन को कम करने में मदद करते हैं और पाचनतंत्र (Digestive System) को बेहतर बनाए रखने के लिए भी ये बहुत जरूरी हैं. इसके अलावा फ्लेक्सिबल बॉडी (flexible Body) यानी लचीला शरीर बनाए रखने में भी ये मददगार होते हैं. आज हम आपको तीन ऐसे योगासन बताने जा रहे हैं. इन्‍हें करने के बाद आपका शरीर लचीला बना रहेगा. फोटो साभार/इंस्‍टाग्राम

 नटराज आसन: नटराज आसन को करने के लिए पहले योगा मैट पर सीधे खड़े हों. अपने हाथ साइड में रखें. अब सांस अंदर की ओर खींचें और अपने सीधे पैर को शरीर के पीछे की ओर मोड़ें. अब सीधे हाथ से पैर के टखने को पकड़ें. इसके बाद अपने सीधे पैर को ऊपर की ओर उठाएं. अब अपने उल्‍टे हाथ को अपने सामने सीधा फैलाएं. इस दौरान आपको गहरी सांस लेते रहना है और शरीर को संतुलित बनाए रखने की कोशिश करनी है. इसे करने की अवधि करीब 15 से 30 सेकेंड की होती है. इसे एक-एक बार दोनों पैरों से करना होता है. फोटो साभार/इंस्‍टाग्राम

नटराज आसन: नटराज आसन को करने के लिए पहले योगा मैट पर सीधे खड़े हों. अपने हाथ साइड में रखें. अब सांस अंदर की ओर खींचें और अपने सीधे पैर को शरीर के पीछे की ओर मोड़ें. अब सीधे हाथ से पैर के टखने को पकड़ें. इसके बाद अपने सीधे पैर को ऊपर की ओर उठाएं. अब अपने उल्‍टे हाथ को अपने सामने सीधा फैलाएं. इस दौरान आपको गहरी सांस लेते रहना है और शरीर को संतुलित बनाए रखने की कोशिश करनी है. इसे करने की अवधि करीब 15 से 30 सेकेंड की होती है. इसे एक-एक बार दोनों पैरों से करना होता है. फोटो साभार/इंस्‍टाग्राम

 धनुरासन: धनुरासन को करते समय शरीर का आकार धनुष के समान दिखाई देता है. इसलिए इसे धनुरासन कहा जाता है. इसे करने के लिए पेट के बल जमीन पर लेट जाएं. अब सांस छोड़ते हुए घुटनों को मोड़ते हुए कमर के पास ले आएं. इसके बाद अपने हाथ से अपने दोनों पैरों के टखनों को पकड़ें. इस दौरान आप अपने शरीर का भार पेट के निचले हिस्से पर लेने का प्रयास करें. जब आप पूरी तरह से अपने शरीर को उठा लें. तब पैरों के बीच की दूरी को कम करने का प्रयास करें. इस दौरान धीरे-धीरे सांस लें और धीरे से छोड़ें. इसके बाद करीब 20 सेकेंड तक इसी स्थिति में रहें और सांस छोड़ते हुए पहले वाली स्थिति में वापस आ जाएं. इसे तीन से पांच बार कर सकते हैं.

धनुरासन: धनुरासन को करते समय शरीर का आकार धनुष के समान दिखाई देता है. इसलिए इसे धनुरासन कहा जाता है. इसे करने के लिए पेट के बल जमीन पर लेट जाएं. अब सांस छोड़ते हुए घुटनों को मोड़ते हुए कमर के पास ले आएं. इसके बाद अपने हाथ से अपने दोनों पैरों के टखनों को पकड़ें. इस दौरान आप अपने शरीर का भार पेट के निचले हिस्से पर लेने का प्रयास करें. जब आप पूरी तरह से अपने शरीर को उठा लें. तब पैरों के बीच की दूरी को कम करने का प्रयास करें. इस दौरान धीरे-धीरे सांस लें और धीरे से छोड़ें. इसके बाद करीब 20 सेकेंड तक इसी स्थिति में रहें और सांस छोड़ते हुए पहले वाली स्थिति में वापस आ जाएं. इसे तीन से पांच बार कर सकते हैं.

 हलासन: हलासन को प्‍लो पोज Plow Pose भी कहा जाता है. खेती में उपयोग किए जाने वाले उपकरण हल के नाम पर इसका नाम हलासन रखा गया है. इसके करने के लिए पीठ के बल लेट जाएं और अपने दोनों हाथों को शरीर से सटा कर रखें. हथेलियां जमीन की तरफ होनी चाहिए. अब सांस अंदर की ओर खींचते हुए अपने पैरों को ऊपर की ओर उठाएं. इससे दबाव पेट की मांसपेशियों पर पड़ेगा. अब अपनी टांगों को ऊपर की ओर उठाते हुए अपने हाथों से कमर को सहारा दें. अब अपनी टांगों को सिर की ओर झुकाएं और पैरों को सिर के पीछे की ओर ले जाएं. हाथों को कमर से हटाकर जमीन पर सीधा रख लें. इसी स्थिति में करीब एक मिनट तक रहें.हलासन: हलासन को प्‍लो पोज Plow Pose भी कहा जाता है. खेती में उपयोग किए जाने वाले उपकरण हल के नाम पर इसका नाम हलासन रखा गया है. इसके करने के लिए पीठ के बल लेट जाएं और अपने दोनों हाथों को शरीर से सटा कर रखें. हथेलियां जमीन की तरफ होनी चाहिए. अब सांस अंदर की ओर खींचते हुए अपने पैरों को ऊपर की ओर उठाएं. इससे दबाव पेट की मांसपेशियों पर पड़ेगा. अब अपनी टांगों को ऊपर की ओर उठाते हुए अपने हाथों से कमर को सहारा दें. अब अपनी टांगों को सिर की ओर झुकाएं और पैरों को सिर के पीछे की ओर ले जाएं. हाथों को कमर से हटाकर जमीन पर सीधा रख लें. इसी स्थिति में करीब एक मिनट तक रहें.

Source link

Leave a Reply

Most Popular

%d bloggers like this: