नगालैंड में मौसम ने चौंकाया, 40 साल बाद बर्फबारी, सीकर में -1 डिग्री पहुंचा पारा

नगालैंड के विधायक ने बर्फबारी के वीडियो और फोटो शेयर किए हैं.

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे फोटो और वीडियो का दावा है कि नगालैंड में कश्मीर की तरह बर्फबारी हो रही है. कहा जा रहा है कि नगालैंड में चार दशक बाद बर्फबारी हुई है. यहां के दो बार के विधायक होनलुमो किकोन (Mmhonlumo Kikon) ने बर्फबारी के वीडियो और फोटो शेयर किए हैं. हालांकि News18 इन वीडियो के सही होने की पुष्टि नहीं करता.

  • News18Hindi
  • Last Updated:
    December 29, 2019, 12:07 AM IST

नई दिल्ली. इसे मौसम का बदला हुआ रूप कहा जाए या फिर पूरे देश में शीत लहर का असर. देश में कड़ाके की सर्दी का असर नॉर्थ ईस्ट (North East) में दिखाई जा रहा है. दावा किया जा रहा है कि नगालैंड के कई हिस्सों में बर्फबारी (Snow fall in Nagaland) हो रही है. सोशल मीडिया पर कई फोटो और वीडियो वायरल हो रहे हैं, जिनमें कहा जा रहा है कि नगालैंड में कश्मीर की तरह बर्फबारी हो रही है. नगालैंड के दो बार के विधायक होनलुमो किकोन (Mmhonlumo Kikon) ने बर्फबारी के वीडियो और फोटो सोशल मीडिया पर शेयर किए हैं. कहा जा रहा है कि नगालैंड में चार दशक बाद ये बर्फबारी हो रही है. हालांकि News18 इन वीडियो के सही होने की पुष्टि नहीं करता.

खबरों के मुताबिक नगालैंड के चार जिलों ज़ुनहेबोटो, किपहिरे, तुएनसेंग और प्हेक में गुरुवार और शुक्रवार को बर्फबारी हुई. स्थानीय निवासियों का कहना है कि इस मौसम में आमतौर पर 10 से 11 डिग्री तापमान रहता है, लेकिन इस समय यहां का तापमान 2 से 3 डिग्री के बीच में है. हालांकि अभी ये नहीं कहा जा सकता है कि वास्तव में नगालैंड में ये बर्फबारी 40 साल बाद ही हुई है. अगुनातो उप संभाग के अंतर्गत आने वाले लुविशे में लोगों का कहना है कि 8 से 10 साल पहले भी यहां पर बर्फबारी हुई थी. हालांकि कुछ लोग कहते हैं वह सही तरह से नहीं बता सकते कि कितने दिन पहले बर्फबारी हुई थी.

विधायक तोशी बुंगटुंग का कहना है कि कुछ साल पहले तक नगालैंड के जंगली इलाके में हल्की बर्फबारी आम बात थी. लेकिन अब कई सालों से ऐसे नजारे दिखना यहां पर बंद हो गए हैं. उनका कहना है कि पहले कोहिमा में सर्दियों में जुकोउ और जुलाकी नदी जम जाती थी.

राजस्थान में ठंड का प्रकोप जारी, कई स्थानों पर पारा शून्य से नीचे लुढ़का
राजस्थान में कड़ाके की सर्दी पड़ रही है जहां अनेक जगह पर न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे बना हुआ है. वहीं कोहरे के चलते आम जनजीवन प्रभावित हुआ है और मौसम विभाग का कहना है आने वाले कुछ दिनों में भी इससे राहत मिलने की उम्मीद नहीं है. मौसम विभाग के अनुसार राज्य के ज्यादातर हिस्से कड़ाके की सर्दी की जद में हैं. शुक्रवार रात को फतेहपुर सीकर में न्यूनतम तापमान माइनस चार डिग्री सेल्सियस रहा. वहीं सीकर में यह माइनस 1 डिग्री सेल्सियस और माउंट आबू में माइनस 1.5 डिग्री सेल्सियस रहा. राज्य के ज्यादातर हिस्सों में न्यूनतम तापमान तीन डिग्री सेल्सियस से कम है. बीती रात अलवर में यह 0.2 डिग्री सेल्सियस, पिलानी में 0.6 डिग्री सेल्सियस, चुरू में 1.1 डिग्री सेल्सियस, गंगानगर में 2.1 डिग्री सेल्सियस, बीकानेर में 2.7 डिग्री सेल्सियस, चित्तौड़गढ़ में 2.0 डिग्री सेल्सियस और डबोक में 2.6 डिग्री सेल्सियस रहा.

मौसम विभाग का कहना है कि अगले 24 घंटों में भी शीत लहर से कोई राहत मिलने की उम्मीद नहीं है. राज्य के सीकर, झुंझुनू, भरतपुर, धौलपुर, अजमेर, टौंक, जयपुर, उदयपुर, चुरू, गंगानगर, हनुमानगढ़ और बीकानेर में सर्दी का प्रकोप अभी जारी रहने का अनुमान है. इसके अलावा इनमें से कई जिलों में पाला पड़ सकता है तथा कोहरे का भी असर रहेगा.

Notsocommon पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: December 28, 2019, 10:34 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here