Tuesday, October 20, 2020
Home समाचार Nobel Prize 2020: ब्लैकहोल की खोज के लिए इन तीनों वैज्ञानिकों को...

Nobel Prize 2020: ब्लैकहोल की खोज के लिए इन तीनों वैज्ञानिकों को मिला पुरस्कार

Nobel Prize 2020: ब्लैकहोल की खोज के लिए इन तीनों वैज्ञानिकों को मिला पुरस्कार

वैज्ञानिक रॉजर पेनरोज, रीनहार्ड गेंजेल और आंद्रिया घेज को नॉबेल पुरस्कार मिला है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Nobel Prize 2020: ब्लैक होल्स (Blackholes) क्या है, इसे समझने की दिशा में काम करने के लिए तीन वैज्ञानिकों को वर्ष 2020 के लिए भौतिकी का नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) दिया गया है. ये तीन वैज्ञानिक हैं- रोजर पेनरोसे, रीनहार्ड गेंजेल और एंड्रिया घेज.

स्टॉकहोम. ब्लैक होल्स (Blackholes) क्या है, इसे समझने की दिशा में काम करने के लिए तीन वैज्ञानिकों को वर्ष 2020 के लिए भौतिकी का नोबेल पुरस्कार दिया गया है. ये तीन वैज्ञानिक हैं- रोजर पेनरोसे, रीनहार्ड गेंजेल और एंड्रिया घेज (Roger Penrose, Reinhard Genzel and Andrea Ghez). इन तीनों के नामों की घोषणा स्टॉकहोम में संवाददाता सम्मेलन में आज की गई. रॉजर पेनरोज ब्रिटेन के हैं. रीनहार्ड गेंजेल जर्मनी और आंद्रिया घेज अमेरिका के निवासी हैं.

इन वैज्ञानिकों की ये हैं उपलब्धियां
खगोलीय खोज के लिए तीन वैज्ञानिकों को 2020 का भौतिकी का नोबेल पुरस्कार मिला है. इनमें रोजर पेनरोसे को ब्लैकहोल की खोज के लिए तथा रीनहार्ड गेंजेल और एंड्रिया घेज को ‘‘हमारी आकाशगंगा के केंद्र में ‘सुपरमैसिव कॉम्पैक्ट ऑबजेक्ट’’ की खोज के लिए यह प्रतिष्ठित पुरस्कार मिला है. तारकीय अवशेषों, श्वेत वामन तारों, न्यूट्रॉन तारों और ब्लैक होल जैसी चीजों को ‘कॉम्पैक्ट ऑबजेक्ट’ कहा जाता है.

इतनी होगी पुरस्कार राशिस्टॉकहोम (Stockholm) स्थित कारोलिंस्का संस्थान (Karolinska Institute) में निर्णायक मंडल ने इन तीनों वैज्ञनिकों के नामों की घोषणा की. नोबेल पुरस्कार के तहत स्वर्ण पदक, एक करोड़ स्वीडिश क्रोना (11 लाख डॉलर से अधिक) की राशि दी जाती है. स्वीडिश क्रोना स्वीडन की मुद्रा है. यह पुरस्कार स्वीडन के वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल के नाम पर दिया जाता है. नोबेल पुरस्कार विजेताओं को 8,23,71,000 रुपये पुरस्कार राशि के बतौर मिलेगी. इस राशि को तीनों विजेताओं को आपस में साझा करना होगा. हर वैज्ञानिक के हिस्से 2,74,57,000 रुपये पुरस्कार राशि हाथ आएगी. नोबेल पुरस्कार की स्थापना स्वीडन के उद्योगपति और केमिस्ट अल्फ्रेड नोबेल ने की थी. उन्होंने अपनी मृत्यु से पूर्व अपने वसीयतनामे में 1895 में इस पुरस्कार की घोषणा की थी.

ये भी पढ़ें: US: चोरी कर eBay पर सामान बेचती थी बुढ़िया, भारी जुर्माने के साथ हुई जेल

ऑस्ट्रेलिया: युवती के सिर में होता था तीखा दर्द, टेस्ट में पता चला कीड़े ने दिए अंडे

ब्राह्मांड के रहस्य उजागर करने में सैद्धांतिक कार्य करने वाले जेम्स पीबल्स तथा सौरमंडल के बाहर एक ग्रह की खोज करने वाले स्विस खगोलशास्त्री माइकल मेयर और डिडियर कुलोज को पिछले साल का नोबेल पुरस्कार दिया गया था. सोमवार को नोबेल समिति ने चिकित्सा क्षेत्र में पुरस्कार विजेताओं के नाम की घोषणा की थी.

Source link

Leave a Reply

Most Popular

हल्के फ्लू जैसे होते हैं नॉन पैरालिटिक पोलियो के लक्षण, इन बातों का रखें ध्यान

पोलियो वायरस (Polio Virus) एक प्रकार का गंभीर संक्रमण (Infection) होता है, जो एक से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है. पोलियो एक खतरनाक...

EXCLUSIVE: कार्तिक आर्यन ने मनीष मल्होत्रा ​​के मिजवान शो के लिए शोस्टॉपर बनने के लिए लक्मे फैशन वीक 2020 को किक किया: बॉलीवुड समाचार...

अभिनेता कार्तिक आर्यन, जिन्होंने लॉकडाउन का अच्छी तरह से पालन किया है और यहां तक ​​कि चल रहे अनलॉक चरण में,...

राजस्थान: पुजारी हत्याकांड में नया मोड़, पेट्रोल खरीदने का वीडियो और फोटो आया सामने|viral Videos in Hindi – हिंदी वीडियो, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी वीडियो...

चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी...
%d bloggers like this: