• भारतीय राजनयिक गौरव अहलूवालिया ने 2 सितंबर को इस्लामाबाद में कुलभूषण जाधव से मुलाकात की थी
  • इस मुलाकात के बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था- कुलभूषण जाधव पाकिस्तान के दबाव में दिख रहे थे

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2019, 02:58 PM IST

इस्लामाबाद. पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ. मोहम्मद फैजल ने गुरुवार को कहा कि कुलभूषण जाधव को दूसरी बार कॉन्सुलर एक्सेस नहीं दिया जाएगा। इससे पहले भारत ने पाक से कहा था कि हम जाधव (49) के लिए तुरंत, प्रभावी और अबाधित कॉन्सुलर एक्सेस चाहते हैं। इसके लिए भारतीय अधिकारी पाक के डिप्लोमैटिक चैनल्स के साथ संपर्क में भी हैं।

 

इससे पहले अंतरराष्ट्रीय अदालत के निर्देश के बाद इसी महीने 2 तारीख को पाकिस्तान ने भारत को कॉन्सुलर एक्सेस दी थी।

 

कुलभूषण पर पाक का झूब साबित करने का दबाव था- भारत

कुलभूषण 3 साल से ज्यादा वक्त से पाक जेल में बंद हैं। आईसीजे के आदेशों के बाद 2 सितंबर को पाकिस्तान ने कुलभूषण को कॉन्सुलर एक्सेस देने का प्रस्ताव दिया था। लेकिन, इस मुलाकात के बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था कि एक घंटे की इस मुलाकात के दौरान यह स्पष्ट था कि कुलभूषण अत्यधिक दबाव में थे। उन पर पाक के झूठे दावे को सही साबित करने का दबाव दिखाई दे रह था।

 

भारत के रिटायर्ड नेवी अफसर जाधव को पाक की सैन्य अदालत ने अप्रैल 2017 में जासूसी और आतंकवाद के आरोप पर मौत की सजा सुनाई थी। इसके बाद भारत मामले को हेग (नीदरलैंड) स्थित अंतरराष्ट्रीय अदालत (आईसीजे) में ले गया था। कोर्ट ने जाधव की फांसी पर रोक लगा दी थी। इस साल जुलाई में आईसीजे ने पाक को आदेश दिया था कि वह बिना देर किए जाधव को कॉन्सुलर एक्सेस मुहैया करवाए।

 

आईसीजे के फैसले के 11 दिन बाद पाक ने काउंसल एक्सेस देने का निर्णय लिया था

पाक विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने रविवार को कहा था कि जाधव को वियना कन्वेंशन के तहत काउंसलर एक्सेस मिलेगा। उन्होंने कहा यह एक्सेस आईसीजे के फैसले और पाकिस्तान के कानून के तहत दिया जाएगा। पाकिस्तान सरकार ने आईसीजे के फैसले के 11 दिन बाद कुलभूषण को सशर्त एक्सेस देने का निर्णय लिया था। 

 

DBApp

 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here