Home Health Health Care / स्वास्थ्य pictures of Zagrebs model train museum the Backo Mini Express Museum is...

pictures of Zagrebs model train museum the Backo Mini Express Museum is the largest of its kind in southeastern Europe | यहां ट्रेन के सफर में आने वाले हर पड़ाव को खूबसूरती से क्रिएट किया गया है, लॉकडाउन के बाद यहां रौनक बढ़ने लगी है


  • ट्रेन म्यूजियम साउथ-ईस्टर्न यूरोप में हैं और इसे बेको मिनी एक्सप्रेस म्यूजियम के नाम से जाना जाता है
  • म्यूजियम की शुरुआत 2015 में हुई थी, यहां 150 ट्रेन के सेट मौजूद हैं जो बच्चों को खासतौर पर पसंद हैं

दैनिक भास्कर

Jun 15, 2020, 09:22 PM IST

यह है यूरोप का ट्रेन म्यूजियम। इसकी तस्वीरों को देखकर लगता है ट्रेन और स्टेशन को ड्रोन कैमरे से कैप्चर किया गया है, लेकिन ऐसा नहीं है। यह खास तरह का म्यूजियम है, जहां ट्रेन के सफर में आने वाले हर तरह के पड़ाव को क्रिएट किया गया है। यह साउथ-ईस्टर्न यूरोप में हैं और इसे बेको मिनी एक्सप्रेस म्यूजियम के नाम से जाना जाता है। लॉकडाउन के बाद यहां फिर से रौनक बढ़ने लगी है। तस्वीरें बताती हैं, यह बच्चों को कितना पसंद है। चलिए ट्रेन म्यूजियम के दिलचस्प सफर पर –

तस्वीर में दिख रहे शख्स का नाम एंटन अर्बिक है। जिन्होंने 2015 में इस म्यूजियम को खोला था। एंटन को ट्रेनों से लगाव 60 साल पहले ही हो गया था जब उनके पिता ने उन्हें ट्रेन का मॉडल सेट गिफ्ट किया था। 
एंटन ने म्यूजियम में 150 ट्रेन के मॉडल लगाए हैं। वह कंट्रोल रूम में बैठकर हर तरफ नजर रखते हैं। उनका कहना है कि ट्रेन के सेट्स को बनाने से पहले मैं बिल्डिंग के मॉडल तैयार करता था। 
66 वर्षीय एंटन के बचपन का नाम बेको है, इसलिए म्यूजियम का नाम बेको मिनी एक्सप्रेस म्यूजियम रखा। म्यूजियम को तैयार करने में 4 साल लग गए, इसके बाद इसे आम लोगों के लिए खोला गया।  
यहां हर साल 25 हजार लोग पहुंचते हैं। जिसमें कुछ विजिटर ऐसे भी होते हैं जिनको ट्रेन से बेहद लगाव है। अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया के अलावा भारत से भी लोग म्यूजिम की खूबसूरती देखने पहुंचते हैं। 
तीन महीने के बाद इसे हाल ही में खोला गया तो यहां चहल-पहल बढ़ने लगी। एंटन के सहायक जोवॉन्को सिबेलो का कहना है, ज्यादातर लोग समझते हैं यह सिर्फ बच्चों के लिए एक गेम जैसा है लेकिन म्यूजियम उससे कहीं बढ़कर है। 
यह साउथ-ईस्टर्न यूरोप का सबसे बड़ा म्यूजियम है। यहां कई तरह के मॉडल देखने को मिलेंगे। जिसमें शहरी, ग्रामीण, हिल स्टेशन और कई देशों से होते हुए ट्रेन को गुजरते हुए दिखाया गया है। 
तस्वीर में मौजूद जेन की उम्र 8 साल है। जेन को यहां पथरीले रास्ते से गुजरने वाली ट्रेन काफी पसंद है। जेन के पिता सासा पेशे से अर्थशास्त्री हैं, उनका कहना है कि यहां मैकेनिक्स और इमेजिनेशन का जबरदस्त कॉम्बिनेशन देखने को मिलता है। मुझे खासतौर पर स्काय स्लोप पसंद है।



Source link

Leave a Reply

%d bloggers like this: