Tuesday, August 4, 2020
Home Religious Sawan Shivratri Date 2020 When Is Shivratri Of Sawan Month And Its...

Sawan Shivratri Date 2020 When Is Shivratri Of Sawan Month And Its Importance – Sawan Shivratri 2020: कब है सावन शिवरात्रि का त्योहार, जानिए इसका महत्व



सावन मासिक शिवरात्रि 2020
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी।
*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

19 जुलाई को सावन शिवरात्रि का त्योहार है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार हर माह की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि के दिन मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है। शिवरात्रि पर शिव भक्त इस दिन पूरे दिन उपवास रखकर शिवजी का आराधना करते हैं। सावन के महीने में पड़ने वाली शिवरात्रि का खास महत्व होता है। इस दिन शिवलिंग पर विशेष पूजा आराधना और जलाभिषेक कर भगवान शिव को प्रसन्न किया जाता है। सावन के पवित्र महीने में मासिक शिवरात्रि को बहुत ही शुभफलदायी माना जाता है। मासिक शिवरात्रि का महत्वमासिक शिवरात्रि पर भगवान शंकर पर जलाभिषेक किया जाता है और उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है। इस प्रमुख शिव मंदिरों में विशेष पूजा-पाठ किया जाता है। गंगाजल से शिवलिंग पर जलाभिषेक कर हर तरह की मनोकामना की पूर्ति के लिए भगवान शिव का आशीर्वाद लिया जाता है। मान्यता है जो भी शिवभक्त सावन शिवरात्रि पर भोलेनाथ का जलाभिषेक करता है उसकी सभी तरह की इच्छाएं जरूर पूरी होती है।सावन कैलेंडर 2020: सावन के पूरे महीने यहां करें भगवान शिव के दर्शनसावन शिवरात्रि जलाभिषेक मुहूर्तभगवान शिव की पूजा दिन के चारों मुहूर्त में करने का विधान होता है।चतुर्दशी तिथि आरंभ- 19 जुलाई 2020, 12: 41 AMचतुर्दशी तिथि समाप्त- 20 जुलाई 2020, 12: 10 AMSawan 2020: भगवान भोलेनाथ को प्रिय होती हैं ये तीन राशियां, हमेशा मिलती है इन्हें भोले भंडारी की कृपासावन शिवरात्रि व्रत विधिशिवपुराण में बताया गया है कि शिव भक्तों को मासिक शिवरात्रि पर उपवास और शिवलिंग पर जलाभिषेक कर भोले भंडारी का आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए। शिवरात्रि पर सुबह जल्दी स्नान करने के बाद पास के शिव मंदिर में जाकर भगवान शिव की विधिवत आराधना करनी चाहिए। शिव पूजा में प्रयोग की जानी वाली सभी तरह की सामग्रियों को भोलेभंडारी को अर्पित करें। अगले दिन अपना व्रत तोड़कर शिव पूजा संपन्न हो जाती है। सावन मासिक शिवरात्रि पर भगवान शिव को भांग धतूर ,बेलपत्र और गंगा जल अर्पित करें। इसीलिए जो इस माह में शिव पर गंगाजल चढाते हैं, वे देव तुल्य होकर  जीवन मरण के बंधन से मुक्त हो जाते हैं । मानशिक परेशानी, कुंडली में अशुभ चन्द्र का दोष, मकान-वाहन का सुख और संतान से संबधित चिंता शिव आराधना से दूर हो जाती है। इस माह में सर्पों को दूध पिलाने कालसर्प-दोष से मुक्ति मिलती है और उसके वंश का विस्तार होता है। ॐ नमः शिवाय करालं महाकाल कालं कृपालं ॐ नमः शिवायका जप करते हुए शिव आराधना करें। 

सार
19 जुलाई 2020 को सावन शिवरात्रि है।
हिंदू कैलेंडर के अनुसार हर महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है।

विस्तार
19 जुलाई को सावन शिवरात्रि का त्योहार है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार हर माह की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि के दिन मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है। शिवरात्रि पर शिव भक्त इस दिन पूरे दिन उपवास रखकर शिवजी का आराधना करते हैं। सावन के महीने में पड़ने वाली शिवरात्रि का खास महत्व होता है। इस दिन शिवलिंग पर विशेष पूजा आराधना और जलाभिषेक कर भगवान शिव को प्रसन्न किया जाता है। सावन के पवित्र महीने में मासिक शिवरात्रि को बहुत ही शुभफलदायी माना जाता है। 

मासिक शिवरात्रि का महत्व

मासिक शिवरात्रि पर भगवान शंकर पर जलाभिषेक किया जाता है और उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है। इस प्रमुख शिव मंदिरों में विशेष पूजा-पाठ किया जाता है। गंगाजल से शिवलिंग पर जलाभिषेक कर हर तरह की मनोकामना की पूर्ति के लिए भगवान शिव का आशीर्वाद लिया जाता है। मान्यता है जो भी शिवभक्त सावन शिवरात्रि पर भोलेनाथ का जलाभिषेक करता है उसकी सभी तरह की इच्छाएं जरूर पूरी होती है।सावन कैलेंडर 2020: सावन के पूरे महीने यहां करें भगवान शिव के दर्शनसावन शिवरात्रि जलाभिषेक मुहूर्तभगवान शिव की पूजा दिन के चारों मुहूर्त में करने का विधान होता है।चतुर्दशी तिथि आरंभ- 19 जुलाई 2020, 12: 41 AMचतुर्दशी तिथि समाप्त- 20 जुलाई 2020, 12: 10 AMSawan 2020: भगवान भोलेनाथ को प्रिय होती हैं ये तीन राशियां, हमेशा मिलती है इन्हें भोले भंडारी की कृपासावन शिवरात्रि व्रत विधिशिवपुराण में बताया गया है कि शिव भक्तों को मासिक शिवरात्रि पर उपवास और शिवलिंग पर जलाभिषेक कर भोले भंडारी का आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए। शिवरात्रि पर सुबह जल्दी स्नान करने के बाद पास के शिव मंदिर में जाकर भगवान शिव की विधिवत आराधना करनी चाहिए। शिव पूजा में प्रयोग की जानी वाली सभी तरह की सामग्रियों को भोलेभंडारी को अर्पित करें। अगले दिन अपना व्रत तोड़कर शिव पूजा संपन्न हो जाती है। सावन मासिक शिवरात्रि पर भगवान शिव को भांग धतूर ,बेलपत्र और गंगा जल अर्पित करें। इसीलिए जो इस माह में शिव पर गंगाजल चढाते हैं, वे देव तुल्य होकर  जीवन मरण के बंधन से मुक्त हो जाते हैं । मानशिक परेशानी, कुंडली में अशुभ चन्द्र का दोष, मकान-वाहन का सुख और संतान से संबधित चिंता शिव आराधना से दूर हो जाती है। इस माह में सर्पों को दूध पिलाने कालसर्प-दोष से मुक्ति मिलती है और उसके वंश का विस्तार होता है। ॐ नमः शिवाय करालं महाकाल कालं कृपालं ॐ नमः शिवायका जप करते हुए शिव आराधना करें। 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

गठिया की वजह से जोड़ों में दर्द और सूजन की हो रही शिकायत, जानें आयुर्वेदिक उपाय

हड्डियों (Bones) और जोड़ों (Joints) में होने वाला रोग आर्थराइटिस यानी गठिया (Arthritis) व्यक्ति को रोजमर्रा के कामों को करने में चुनौती पैदा कर...

वकील प्रशांत भूषण के खिलाफ अदालत की अवमानना का मामला, SC ने सुरक्षित रखा फैसला

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने वकील प्रशांत भूषण के खिलाफ 2009 अवमानना मामले में अपना फैसला सुरक्षित रखा है. वकील प्रशांत भूषण के खिलाफ...