Friday, September 18, 2020
Home Health Health Care / स्वास्थ्य WHO Coronavirus | World Health Organization Coronavirus Updates; COVID patients with no...

WHO Coronavirus | World Health Organization Coronavirus Updates; COVID patients with no Symptoms (Asymptomatic) | कोरोना के बिना लक्षण वाले मरीजों से संक्रमण फैलना दुर्लभ, दुनियाभर में वायरस फैलने की वजह ये लोग नहीं


  • डब्ल्यूएचओ की महामारी विशेषज्ञ डॉ. मारिया वेन के मुताबिक, एसिम्प्टोमैटिक मरीजों से भी संक्रमण फैल सकता है लेकिन दुनियाभर में संक्रमण की मुख्य वजह ये मरीज नहीं
  • एसिम्प्टोमैटिक मरीजों में ज्यादातर युवा और स्वस्थ लोग शामिल हैं जिनमें संक्रमण के बाद या तो लक्षण नहीं दिखते या फिर काफी हल्के लक्षण सामने आते हैं​​​​​

दैनिक भास्कर

Jun 09, 2020, 02:27 PM IST

जेनेवा. विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है, कोरोनावायरस के ऐसे मरीज जिनमें लक्षण नहीं दिखाई दे रहे (एसिम्प्टोमैटिक) हैं उनसे दूसरों को संक्रमण फैलने के मामले काफी दुर्लभ हैं। ऐसे मामले बेहद कम हैं। पिछले कुछ समय से शोधकर्ता ऐसे लक्षण वाले मरीजों पर संदेह जता रहे हैं। उनका कहना है कि ऐसे मरीज बीमारी को और जटिल बना रहे हैं। सोमवार रात विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने इस पर अपनी राय रखी। 

डब्ल्यूएचओ का कहना है कि संक्रमण फैलने का मुख्य कारण एसिम्प्टोमैटिक मरीज नहीं हैं। खासकर युवाओं और दूसरे स्वस्थ लोगों में ऐसे देखा जाता है कि इनमें संक्रमण के बाद लक्षण नहीं दिखते हैं या बेहद हल्के लक्षण सामने आते हैं। 

महामारी की शुरुआत में मिले थे प्रमाण

महामारी की शुरुआत में इस बात के प्रमाण मिले थे कि कोरोनावायरस एक संक्रमित इंसान से दूसरे इंसान में फैलता है, भले ही उसमें लक्षण दिख रहे हों या नहीं। इस पर डब्ल्यूएचओ की महामारी विशेषज्ञ डॉ. मारिया वेन का कहना है कि एसिम्प्टोमैटिक मरीजों से भी संक्रमण फैल सकता है लेकिन दुनियाभर में जिस तरह मामले बढ़ रहे हैं उसकी वजह ये मरीज नहीं हैं।

संक्रमितों को पहचानने का लक्ष्य तय करना जरूरी

डॉ. मारिया वेन के मुताबिक, अब तक का हमारे पास जो आंकड़ा है वह बताता है कि ऐसे मामले दुर्लभ हैं। सरकारों को इस समय अपना लक्ष्य संक्रमितों का पता लगाने और उन्हें आइसोलेट करने पर रखना चाहिए। इसके अलावा मरीजों के सम्पर्क में आने वाले लोगों पर भी नजर रखने की जरूरत है। कुछ ऐसी रिसर्च भी सामने आई हैं जिसमें बताया गया है नर्सिंग होम या घरों में एसिम्प्टोमैटिक मरीजों से संक्रमण फैला है। 

अभी रिसर्च के और नतीजे सामने आने की जरूरत
डॉ. मारिया वेन का कहना है कि कुछ ऐसी रिसर्च भी सामने आई हैं जिसमें बताया गया है नर्सिंग होम या घरों में एसिम्प्टोमैटिक मरीजों से संक्रमण फैला है। इस सवाल का सटीक जवाब जानने के लिए अभी और रिसर्च के नतीजे व डाटा सामने आना जरूरी है। हमारे पास कई देशों की ऐसी रिपोर्ट है जिसमें बताया जा रहा है कि सम्पर्क से आने से संक्रमण फैला है। वे एसिम्प्टोमैटिक मरीजों पर नजर रख रहे हैं। 

अभी फोकस लक्षण वाले मरीजों पर
डॉ. मारिया वेन के मुताबिक, अभी हमारा फोकस केवल लक्षण वाले मरीजों पर है। अगर हम लक्षण वाले मरीज, आइसोलेशन और क्वारैंटाइन के मामले और इनसे होने वाले दूसरे मामलों को कंट्रोल कर ले गए तो महामारी का आंकड़ा तेजी से गिरेगा। 



Source link

Leave a Reply

Most Popular

अनुराग कश्यप और कंगना रनौत ने युद्ध का बिगुल बजा दिया – “आप अपने साथ चार से पांच लोगों को ले जाओ और चीन...

अभिनेत्री कंगना रनौत पिछले कुछ महीनों से सुर्खियां बटोर रही हैं। हाल के दिनों में, राजनीतिक पार्टी शिवसेना के साथ...

Entertainment News Live: आज सामने आएगी सुशांत की विसरा रिपोर्ट, खुलेगा मौत का राज

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में रोज नए-नए खुलासे हो रहे हैं. सुशांत केस में सीबीआई की एसआईटी टीम एम्स...
%d bloggers like this: