Saturday, September 19, 2020
Home Health Health Care / स्वास्थ्य World Suicide Prevention Day 2020: आत्महत्या की प्रवृति के इन लक्षणों को...

World Suicide Prevention Day 2020: आत्महत्या की प्रवृति के इन लक्षणों को ना करें अनदेखा

हर साल 10 सितंबर को दुनियाभर में सुसाइड प्रिवेंशन (World Suicide Prevention Day 2020) यानी आत्महत्या रोकथाम दिवस के रूप में मनाया जा रहा है. इंटरनैशनल एसोसिएशन फॉर सुसाइड प्रिवेंशन (IASP) की तरफ से इसका आयोजन किया जाता है और इस दिन का उद्देश्य आत्महत्या और इसकी रोकथाम के बारे में लोगों के बीच जागरूकता बढ़ाना है. इस साल का विषय है- आत्महत्या को रोकने के लिए एक साथ काम करना- सरकारी संगठन, हेल्थकेयर प्रफेशनल, एनजीओ, परिवार, दोस्त, सहकर्मी और नजदीकी लोगों को एक साथ लाने पर फोकस करना ताकि आत्महत्या की दर को कम किया जा सके.

हर साल 8 लाख लोग करते हैं खुदकुशी
IASP अध्यक्ष मुराद खान ने अपने वीडियो संदेश में बताया कि, “दुनियाभर के आंकड़ों की बात करें तो हर साल करीब 8 लाख लोग आत्महत्या करते हैं और हर 40 सेकंड में एक व्यक्ति कहीं न कहीं खुदकुशी कर रहा होता है. विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस हम सभी के लिए, आत्महत्या के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए, इसे रोकने के लिए और इस आत्मघाती व्यवहार से जुड़े कलंक को कम करने के लिए एक अवसर प्रदान करता है.”आत्महत्या करने वाले 54% लोगों को कोई मानसिक बीमारी नहीं

आमतौर पर ज्यादातर लोगों का जो मानना है उसके विपरीत, आत्महत्या की प्रवृत्ति सिर्फ मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति से पीड़ित लोगों को प्रभावित नहीं करती है. अध्ययन से पता चलता है कि आत्महत्या करने वाले लगभग 54 प्रतिशत लोगों को किसी भी तरह की कोई मानसिक बीमारी नहीं थी. लोग हमेशा ही अचानक या अप्रत्याशित ढंग से आत्महत्या नहीं करते हैं बल्कि जिन लोगों में आत्महत्या करने की प्रवृत्ति होती है वैसे लोग अक्सर कुछ सूक्ष्म संकेत देते हैं जिन्हें पहचाना जा सकता है. हालांकि, हम में से अधिकांश लोग इन संकेतों को नोटिस करने में विफल रहते हैं क्योंकि हकीकत ये है कि आत्महत्या जैसे मुद्दे से जुड़े स्टिगमा यानी धब्बे की वजह से हम इस विषय पर चर्चा करने से भी बचते हैं.

आत्महत्या को रोकने के लिए सामूहिक प्रयास की जरूरत
IASP अध्यक्ष आगे कहते हैं, “आत्महत्या की रोकथाम एक वैश्विक चुनौती है और यह किसी भी व्यक्ति को प्रभावित कर सकता है. आत्महत्या के कारण समय से पहले होने वाली मौत के आंकड़ों में कमी लाने के अंतिम लक्ष्य तक पहुंचने के लिए एक सामूहिक और सम्मिलित प्रयास की आवश्यकता है ताकि परिवर्तन की पहल की जा सके. हम सभी इसमें अहम रोल निभा सकते हैं. फिर चाहे किसी दोस्त या परिवार के सदस्य जिन्हें मदद की जरूरत हो उनसे बात करना हो, आत्महत्या से जुड़े जोखिम और संकेतों के बारे में जानने की कोशिश करना हो या फिर आत्महत्या के बारे में चर्चा करना हो ताकि इससे जुड़े कलंक को कम किया जा सके.”

इसे भी पढ़ें : World Suicide Prevention Day 2020: क्यों मनाया जाता है विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस, जानें इस बार की थीम

आत्महत्या रोकथाम दिवस के विषय को ध्यान में रखते हुए हम आपको बता रहे हैं कि उन संकेतों या लक्षणों के बारे में जिससे यह पता चल सकता है कि कोई व्यक्ति खुदकुशी कर सकता है :

1. आत्महत्या के बारे में बात करना
अगर कोई व्यक्ति बार-बार इस बात का जिक्र करे कि वह खुद को मारना चाहता है या सबकुछ खत्म कर देना चाहता है. अगर वह इस बात का जिक्र करे कि उसे मौजूदा स्थिति में हर वक्त निराशा महसूस होती है और वह हर किसी के लिए बोझ बनता जा रहा है. वैसे यह जरूरी नहीं कि हर वह व्यक्ति जो आत्महत्या के बारे में बात करे वह आत्महत्या कर ही ले. लेकिन अगर किसी व्यक्ति में इस तरह का व्यवहार दिखे तो सही समय पर हस्तक्षेप करें और आवश्यकता पड़ने पर किसी प्रफेशनल की मदद भी लें.

2. लगातार उदासी/डिप्रेशन में रहना
यदि कोई व्यक्ति लंबे समय से उदास है और संबंध-विच्छेद, चिड़चिड़पान या अस्थिरता के लक्षण दिखा रहा है, तो हो सकता है कि उस व्यक्ति को डिप्रेशन हो और उसे चिकित्सीय मदद की जरूरत हो. जिन लोगों को क्लिनिकल डिप्रेशन होता है वे लोग भी आत्मसम्मान में कमी, निराशा, अपराधबोध और चिड़चिड़ापन की भावना से ग्रस्त रहते हैं. उन्हें किसी भी तरह का निर्णय लेने में बहुत मुश्किल होती है और उन्हें हर वक्त रोने और आंसू बहाने का मन करता है.

3. खुद को नुकसान पहुंचाना
हो सकता है कि वह व्यक्ति खुद को नुकसान पहुंचाने के लिए अत्यधिक शराब पीने लगे या ड्रग्स का सेवन करना शुरू कर दे, रैश ड्राइविंग करने लगे या शरीर पर कट मार्क्स बनाने लगे. कुछ लोग आत्महत्या करने के विभिन्न तरीकों के बारे में ऑनलाइन सर्च भी करने लगते हैं.

4. अलविदा कहना
अक्सर आत्महत्या की प्रवृत्ति रखने वाले लोगों को इस बात की कोई चिंता नहीं रहती कि वे खुद कैसे दिखते हैं और वैसी कीमती चीजें जिनसे कभी उन्हें बहुत प्यार हुआ करता था उन्हें दूसरों को दे देते हैं. हो सकता है कि वे परिवार के सदस्यों और दोस्तों से मिलकर या फोन कर उन्हें गुडबाय या अलविदा कहने लगें.

5. कई अन्य संकेत
आत्महत्या की प्रवृत्ति रखने वाले लोगों में बहुत ज्यादा गुस्सा, अचानक शांत हो जाना, उनके व्यवहार में सुधार, अनिद्रा या अत्यधिक नींद आना जैसे लक्षण भी नजर आ सकते हैं. वे गैर-मिलनसार या एकांत प्रिय हो जाते हैं, हर वक्त थकान महसूस करते हैं और अपने प्रियजनों से खुद को अलग कर लेते हैं. (अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, आत्महत्या के विचार के लक्षण, कारण और जोखिम के बारे में पढ़ें।) (NotSocommon पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।)

! function(f, b, e, v, n, t, s) { if (f.fbq) return; n = f.fbq = function() { n.callMethod ? n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments) }; if (!f._fbq) f._fbq = n; n.push = n; n.loaded = !0; n.version = ‘2.0’; n.queue = []; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e)[0]; s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, ‘script’, ‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’); fbq(‘init’, ‘482038382136514’); fbq(‘track’, ‘PageView’);

Source link

Leave a Reply

Most Popular

%d bloggers like this: